Follow me on Twitter

Friday, October 17, 2008

Friends of the Terrorists Club(FTC)

Suddenly yardsticks for our judgment have changed. Opinions, morphed as judgments, are passed not on merit or weighing its consequences for the society, but by the yardstick of the colour events wear. The Nanavati Commission's report is to be discarded even before its pages are browsed because the Narendra Modi government instituted it and it shows Hindus as victims. The Bannerjee report is to be trusted because the secular Lalu Yadav instituted it and shows Hindus as aggressors. Strange logic.
Who speaks for the Indian?
Inspector M.C.Sharma's funeral is not to be attended because he shot at Muslims. When the men in khaki arrested the Kanchi Shankaracharya, not a single secular channel or newspaper cast any doubt on the police reports and statements. But when the men in khaki arrested a few from Jamia Milia, doubts were raised immediately and investigative journalism flowered.
Please read the following significant revelations:
The BJP government decided to undertake a census to find out how many Muslims there were in the armed forces, at each level, and in each unit.
The BJP government decided to survey the entire civil service to find out how many Muslims were employed and at what level.
The BJP government decided to set up National Advisory Council run by a prominent BJP/RSS leader. Its job is to consult with NGOs that are friendly to the BJP/RSS in order to seek advice on government policy. The Council, in turn, would propose legislation that the BJP government would implement. Of course, the NAC is not elected and has no constitutional power.
Riots took place between Buddhists and Muslims in Ladakh, at a time when the Chief Minister of Jammu and Kashmir is a long-time BJP politician from Jammu who has been appointed CM by the high command in Delhi.
A cabinet minister in the Rajasthan's BJP govt., who had also taken part in the Ayodhya kar seva announced in a public meeting at Kota that Rs. 51 crores will be awarded to any one who will slay M.F.Hussain and further he would be weighed in gold and that gold will also be handed over to him as a mark of Hindus' gratitude for punishing the bad guy.
Of course, it was a Congress government that did all these things and the last act by a S.P. minister. Suppose it had been a BJP government, can you imagine the outrage and hostility of the "secular" Indian media and intelligentsia? Somehow they keep quiet when someone else does it.
Sitting in my small balcony watching Sreedharan's miracle called Delhi Metro passing by, I tried to make some points that require some answers I fail to provide.
1 Kanchi Shankaracharya was arrested on wild allegations while performing puja on Diwali night in the name of law and announcing that the statute is above all. But the non bailable warrants against Imam Bukhari were refused to be executed by Congress govt. through an affidavit filed in the court.
2. Denmark cartoons of the prophet were denounced and the govt. expressed 'concern'. And all of us agreed. But when M.F.Hussain drew an obscene picture of Mother India and other Hindu goddesses, nothing happened. Doesn't Mother India belong to all of her children-Hindus, Muslims, Christians alike? Similarly no govt. statement of 'concern' came out on the ugly depiction of devi Durga by an Athens ad agency.
3. In the case of Aligarh Muslim University, when the Supreme Court said it can't be declared a minority institute, the Minister refuses to accept it and comforts his vote zone that a law would be made to annul court's decision.
4. In the case of the infamous I.M.D.T. act in Assam , which protects the Bangla Deshi infiltrators rather than to facilitate their ouster, Supreme Court ruling was again flayed and the chairperson of the ruling combine assures in Assam that the same would remain in vogue.
5. Hajj is helped through lavish grants while Hindu pilgrims to Kailas Manasarovar are not.
6.Negotiations on Kashmir have been reduced to a Muslim alone platform and all the permits, Aman Setu and talks revolve around Muslim outfits while Kashmiri Hindus remain as neglected as ever, who have been turned refugees in their own free and secular nation. No plans or announcements are made even to remotely suggest that they will go back home soon. Imagine what this govt. and the powerful secular press might have done if Muslims were made to flee from a Hindu majority state in India?
7. Iran vote by India has been turned into a Muslim issue by the most pronounced secular parties like CPM and Samajwadi, on the other hand when a neighbouring Hindu monarchy and its citizens are brutally assaulted by the Communist terrorist group, it becomes a question of democracy and the killers are projected and interviewed as heroes of a mass revolution. 7. The same govt. invites the Saudi King as chief guest at its republic day parade, knowing well that there is no individual freedom or human rights in the kingdom and Hindus are not allowed to practice their pujas even in the private precincts there.
8. Andhra govt. announces job reservations for Muslims alone in the face of adverse judgments by Andhra High Court and Supreme Court.
9. Valentines Day has become a new national festival , so the freedom to celebrate it means being modern and progressive and any different voice is debunked as retrograde and obscurantist specially targeting Hindutva organizations for saying what they believe in. Just one or two small protests out of 500 cities, are shown twenty-four hours to use it to denounce an entire community.
10. A congregation of the Hindu tribals to rise above social discriminations and ill practices of the caste and regionalism for safeguarding religious identity is condemned as an affront to other religions and pronounced as a 'war' on the secular right to convert Hindus. That the high priests of the Hindu society mingled with the so called low caste people and tried to erase the stigmas is not found even worth mentioning.
"PM faces EU ire over the 'massacre' of Christians', ran a front page headline. Thank god, Mehrauli's Santosh and Kandhmaal's Swami Lakshmanananda didn't have any lobby in France or US. What a relief. They were not concerned at the growing violence in India. Just the faithful of their colour make their world. Anything, any hurt, is a 'massacre', 'mayhem', and 'pogrom' if seculars so wish. It makes good headlines abroad and even better grants and awards for the academic crusaders.
Prime Minister couldn't say-well I think Christians in Bangalore and Orissa too are Indians, who are you to tell me what should I be doing in my home?
When noise and cacophony rules, victims look as aggressors. Hard law is bad, because it was "used" against a particular community. Police is bad because it's arresting and targeting a particular community.
Terror is secular, khaki is suspect
While the nation and her security forces that includes the police too, stand firm to combat terrorism, the state power and the seculars are providing focused support to terrorists and enhancing their morale through statements and casting doubt on the motives of the anti-terror action. India's secular cabinet ministers demanded lifting of a ban on a terrorist organization, proposed Indian citizenship to millions of illegal Bangladeshi infiltrators, refused to say a word of encouragement to the security forces fighting terrorists but publicly assured help to the accused whom police, a part of the government, arrested for blasting Delhi and killing citizens.
All these secular statements had just one consideration religion of the groups they want to support or oppose. The seculars have become the worst kind of communal hate spreaders, with their extreme one-sided postures and acidic language. In a way these rabble-rousing seculars have become a security threat affecting the societal fabric and the morale of the policemen and soldiers.
They ordered a communal head count in the army, ignored and downgraded celebrations of Bharat Vijay Diwas, 16th December, and Kargil Vijay Diwas, stopped observing the Pokharan test anniversary in Delhi and failed to show due respect to Field Marshall Manekshaw. All this can't just be exception; they show a trend, an attitude.
They know their side
In the secular dispensation, to be objective, liberal and broadminded and have sympathies on humanitarian grounds are reserved only for terror groups. Is it a secret that these seculars leave no stone unturned to create an atmosphere where procedural mechanism to punish the guilty is influenced and driven to believe that the arrested criminal is not the culprit, but the victim of an incompetent state apparatus.
Remember how a vigorous campaign to release a lecturer of the same Jamia Milia Islamia was launched in spite of Delhi police submitting a truckload of evidence about his involvement in the attack on Parliament? And the famous case of Abdul Mahdani, declared as the "main accused" in the Coimbatore bomb blast case, which left 58 dead? Karunanidhi went to see him in jail, provided all the facilities, including a regular masseur, and finally when on purely "technical" points he was released, Kerala's Left Front cabinet ministers came out and accorded him a public felicitation?The charges against Mahdani were as follows:
"Accused No. 14 Mahdani is one of the key conspirators in the Coimbatore bomb blasts case."
"Accused of collecting and transferring explosives to the town, ripped by a series of bomb blasts on February 14, 1998."
"Charged under Sections 302 IPC (Murder); 307 IPC (Attempt to Murder); 153-A IPC (Creating hatred among communities); Section 5 of the Explosives Act and Section 25 of the Arms Act.
"Public prosecutor Balasundarm, arguing against Mahdani, had expressed "surprise" over the judgment to release him and said he did a good job in assimilating the voluminous evidence of documents 1785 documents marked as evidence, 1300 witnesses and over 15,000 pages of investigation records. If indeed the case had been presented as thoroughly as claimed, why did it fail?
Maulanas are silent, teachers do not speak out and the common men suffer in silence. Is that the way we are going to deal with this war? If people don't forge solidarity and revolt and keep looking to politicians for all solutions, even god will think twice about helping them.

Thursday, October 16, 2008

Call the bluff of America

Published on :-The Pioneer

Date: November 13, 2005

Instead of advising India on caste system, the US would do better to address its own social problems, says Tarun Vijay

In November, the US Congress will discuss a Bill on Indian Dalits that deals with their treatment. Congressman Christopher Smith, a New Jersey Republican who chairs the House International Relations Subcommittee on Global Human Rights and International Operations, held previous discussions on the topic in October this year.

Mr Smith convened the hearing titled 'India's Unfinished Agenda - Equality and Justice for Victims of Caste System', during which, he said, "The Dalits and tribal peoples are treated as virtual non-humans, and suffer pervasive discrimination and violation of their human rights."

In his discussion, Mr Smith alleged that Dalit girls are becoming temple prostitutes and tens of thousands of tribal women have been forced into situations of economic and sexual exploitation. He further said that despite constitutional safeguards, the rights of indigenous groups in the eastern parts of the country are often ignored and mob violence such as lynching, arson and police atrocities against tribal persons are all too common.

Mr Smith, bringing out the 'real' issue, said, "Over the years, many Dalits and tribal groups have converted from Hinduism to other faiths (read Christianity). However, such converts often lose benefits conferred by the Government's affirmative action programmes because these, according to the Constitution, are reserved only for those having Scheduled Caste status. Converts to Christianity and Christian missionaries are particularly targeted, as violence against Christians often goes unpunished."

Any person blind to Indian interests would find such blatant lies offensive. Why take refuge in lies and falsehood in a country where god speaks directly to its President? And why are such concerns always limited to Christians? Is the US the sole protector of Christian rights, globally? Are Indian Christians comfortable when another country interferes in their matters? Why are they silent? Do they feel only US can help them and not the Indian Constitution or people? Do they know that Indian Dalits are lured into Christianity by announcements preaching that only Hinduism has caste based discrimination; that once you become Christian, you become equal in the eyes of all?

Missionaries fail to mention, however, that even after conversion, Dalit Christians have to go to separate churches and have designated separate cemeteries, too. The same happens to the Dalits when they turn to Islam but are still told to demand reservation! An Dalit receives Government reservation by virtue of being a Hindu to rectify the injustices faced due to caste-based discrimination. The moment he leaves Hinduism and is baptised or Islamised, the raison d'etre for benefits automatically ceases to exist.

Hungry for battle, US President Bush has now unleashed a war on Hindus through sanctioning billions of dollars for proselytising campaigns. The US Congress's debates about Indian Dalits provide Christian missionaries with a 'cover' to convert weaker sections of Hindus in the same way that Pakistanis provide cover to the jihadi infiltrators along the LoC.

This process has two steps: First, creating an atmosphere of baseless allegations and stating Christians alone are victims, thus making Indians defensive. Second, asking for safeguards from these allegations from the proselytisers and unleashing a billion dollar campaign to take advantage of a disjointed Hindu society.

It is sad to see a complete absence of protest from the Government of India that claims to represent all sections of the Indian society and, above all, national honour. Still worse, Dalit movements have not been able to produce nationalist leaders like BR Ambedkar, who would stand up against blatant US interference in our internal matters. Most of the present lot thrives on the support of foreign NGOs and US groups which use them for their nefarious designs. They forget that the eradication of untouchability and caste-based discrimination has been the single most important issue for all Hindu social reformers and political leaders, across party lines. From Guru Gobind Singh to Sahuji Maharaj to Vivekanand, Mahatma Gandhi, Ambedkar, Hedgewar, and the present political groups, all are unanimous regarding this. But, due to vote-bank politics, caste still plays a major role in hampering progress needed to achieve an egalitarian and casteless society. Though it's a serious problem, Indians are addressing it with full support from the Constitution and their socio-religious and political groups.

Americans should set their own house in order before interfering in the affairs of other sovereign countries. According to Human Rights Watch, US figures reveal the continuing, extraordinary magnitude of minority incarceration and the stark disparity in their rates of incarceration compared to those of whites. Out of a total population of 1,976,019 incarcerated in adult facilities, 1,239,946 or 63 per cent are black or Latino, though these two groups constitute only 25 per cent of the national population. Instead of giving baseless commentary on the caste situation in India, the US Congress would do better to address social problems in America.

Secularists left speechless by Shabari Kumbh

Published on :- Daily Pioneer, February 17, 2006

Something unbelievable is happening in the forested tribal areas of south Gujarat, the Dangs. I see miles after miles of people coming down the hills and village roads making it almost impossible to drive up to the venue where Shabri Kumbh - commemorating the legend of Shabri - is being held.
Till Saturday afternoon, more than 3.5 lakh tribals from every nook and corner - from the far Northeastern States to Port Blair and Uttaranchal to Kerala - had arrived. At midnight, they were still reaching from places as far away as Itanagar in Arunachal. It's a unique event in the tribal history post-independence India, and its magnitude is difficult to measure for a reporter who is able to see only a part of the whole even after a hectic day-long tour around the five sq km stretch of the venue on the full moon day of the month of Magh.
Why should tribals feel threatened in a nation whose Constitution provides protection to their cultural and religious identity? It is so "because the constitutional provisions have not been used effectively so far", says Mr Jagdeo Ram Oraon, a tribal leader from Chhattisgarh and president of the largest NGO working among tribals, the Vanavasi Kalyan Ashram. Mr Oraon who is also chairing the Shabri Kumbh Committee. "We are not against any religion or institution, but are trying to put our own house in order. What's the fuss about?" he asks.
Later in the evening, I meet the lady pastor of the local CNI church. Her grandfather was the first pastor of the same church established in 1932. She says they have nothing to fear from such gatherings as the tribals are always non-violent though there are bad memories of a few incidents that occurred in 1998 in this region. This time the administration has given them full protection. "It's the media reports that make us anxious," she said. And she was right. In spite of everything remaining peaceful, a section of the media tried to create fear amongst the Christians.
It is noteworthy that the tribals have fought more than hundred recorded battles against the British led by heroes like Alluri Sitaram Raju, Birsa Munda, Sidho, Kanho Chand and Bhairon, Pazhsi Raja and Rani Gaidinliu. Without exception, all of them had to resist the onslaught of Christian missionaries, too, as the battle against the British also meant battling to safeguard their religion.
Take the example of Rani Gaidinliu of Nagaland. She had led a heroic guerrilla war against the British and when defeated by the mightier army, was rewarded life imprisonment by means of a "fair trial" -- all this when she was just 16. Nehru met her in Kohima jail and wrote poetically about her heroism calling her "fit to be a Rani", hence the title of Rani.
After independence, it took Nehru more than a year to see her out of jail. Indira Gandhi awarded her the Padma Bhushan and also a tamra patra in the silver jubilee year of independence. But Kohima church and the Christian leaders of the NSCN opposed vehemently when there was a proposal to have her statue installed in Kohima after her death because she had declared her Heraka and Zeliangrong movements Hindu and had refused to convert to Christianity.
In order to convert a tribal, his beliefs, customs and deities are condemned, pronounced "incapable of providing salvation"; his entire worldview is sought to be replaced with Romanised concepts and ways of worship. It was the fear of this aggression that made Congress leader and current Chief Minister of Arunachal Pradesh create a Dony Polo mission. He also began motivating tribal public educational institutions so that his people were saved from conversion.
Shabri, who waited a lifetime to welcome Ram, is believed to have treated the Lord with her part-eaten wild berries in the Dangs (derived from Dandakaranya) according to the beliefs of the local tribal population. Surely, she has emerged as the most powerful icon of tribal-nontribal harmony, the legend thus helping the evolution of a unique cultural chemistry.
The same place is today witnessing a powerful assertion of tribal rights to protect their identity and culture. They have given an unambiguous call to their converted brethren to return to their original fold. "We are not giving a call to the citizens of Vatican to convert to Hinduism, but calling our own people back," asserts Morari Bapu, world-renowned preacher. In the village of Shabri, it was an unprecedented sight: Revered Shankaracharyas, sannyasins and Brahmins were embracing the tribals and seeking forgiveness if they had been wronged in the past.
But the secular Taliban-like voices refuse to see anything good happening to Hindus. They tried their best to ban Shabri Kumbh, some media persons surveyed the venue in advance and the prophets of doom declared the programme a threat to environment.
Those who merrily lauded the fraud of Benny Hinn, went hammer and tongs against a great Hindu event. But all of them have been silenced by the grandeur and peaceful conclusion of the biggest expression of tribal assertion in our history. This is also the beginning of a new order, which declares: Come what may, obstructionist politics of hate cannot stop the march of the indigenous people.

'If you sow the seed of poison you will reap hate'

Published on :- Rediff .com ,March 03, 2008

Two decades ago Tarun Vijay was asked by then Rashtriya Swayamsevak Sangh sarsanghchalak Professor Rajendra Singh to edit Panchjanya, the RSS Hindi weekly. It was a job Vijay accepted gleefully as it coincided with his views of strengthening Hinduism.

On February 25, Vijay relinquished the editorship of Panchjanya to take over the directorship of the Bharatiya Janata Party think-tank, the Dr Shyama Prasad Mukherjee Research Foundation.

In an interview with Senior Associate Editor Onkar Singh in New Delhi, Vijay says the India of his dreams is one where everyone gets an opportunity to flower just like the Jews who found solace in India while they were being persecuted elsewhere in the world.

A journalist since 1976, he began his career with Russi Karanjia at the Mumbai-based tabloid Blitz and then as a freelance journalist for major dailies and magazines before spending five years as an RSS activist in the country's tribal areas. He was the youngest member of the then home minister's advisory committee during Indira Gandhi's government before joining Panchjanya.

Former prime minister Atal Bihari Vajpayee once said about him: 'Tarunji looks small in physique, but his brilliance and sharp intellect, his logical writings make a deep, very deep impression on the readers.'

An avid photographer he has covered the Himalayan region extensively and his pictorial book An Odyssey in Tibet has been well received. His photographs on the river Indus had been exhibited in Bangalore, Chennai, New Delhi, Kolkata and Mumbai. He also led the first Indus expedition from Demchok to Batalik.
Why is Indian society becoming so intolerant?

I must admit that intolerance is everywhere. This kind of apartheid is due to the Leftist influence in politics and the intellectual arena. Though Charvak spoke against the Vedas he was given a high pedestal of a Rishi by Indian society. He was called one of the six most exalted Rishis. So intolerance against other religions is an un-Indian attitude.

The Indian ethos believes in a million flowers and a million fragrances. The growing intolerance is because of jihadi assaults and the wrong policies of the government which thinks that anything that is linked to Hinduism has to be ignored. It pays to be a non-Hindu in India. There are endless examples like special universities for non-Hindus, special loans for a particular community. If non-Hindus are in trouble the government and the media gets perturbed.

Has the establishment ever thought of including Hindus in Kashmir in this list?

Do you think Hinduism is under attack?

Hinduism allowed all the religions of the world to flower in India. But now the very core of Hinduism is under attack. It is our responsibility to make society awaken to such dangers.

Are you saying that Hinduism must be strengthened?

Certainly so. We must have free and fair society which believes in coexistence, in Vasudeva Kutumbam (The world is one family).

Do you believe that the BJP has a chance to win the next general election?

The present atmosphere gives us hope that the BJP will come to power in the next Lok Sabha election provided the party continues to stick to its ideological moorings. I feel that people have trust in the party. It is a party which believes and propagates the nationalist ideology.

Did the BJP commit a mistake by giving up the Ram Mandir issue?

The construction of a Ram temple is a one hundred per cent certainty. Whether the BJP does it or someone else does it is hidden in the future. The Hindu is the first enemy of Hindu issues. The Ganga is polluted by Hindus. The majority of cow slaughter houses are run by Hindus. Many exporters who export meat including beef are Hindus. Those who give reservation to non-Hindus are Hindus. They find it politically beneficial to assault Hindu issues. This situation has to be reversed.

And this can be done only through Hindu reforms. We must show Hindu solidarity which is the key to most of the problems that we face today. Those who visit temples do not keep them clean. People do not ensure that the priests recite the right shlokas and that the pronunciation is correct. We have to ensure that the priests do not loot pilgrims. This is a kind of reform that has to come from within.

The youth of today must take the initiative and we cannot blame others.

Hindu solidarity is not against any minority and it would be beneficial to all minorities including Christians and Muslims. It is for the national good.

Are you turning into a hardliner once again?

To be a Hindu one is essentially liberal. My liberalism is inherent in being a Hindu. It is part and parcel of my Hindu religion. I would like everyone to share this thought including Muslims and Christians. According to me, if water and education is not provided to everyone and if the women are not empowered there is no Hindutva -- it means that every citizen of India, whichever religion he may belong, achieves progress.

What was the RSS's reaction when Mr Vajpayee announced that he was going to Lahore in 1999?

We were the first to welcome it and I was invited to join the party. Nawaz Sharif, then the prime minister of Pakistan, was there to receive the Indian prime minister. Pakistan has been created on the basis of hate and this must go. Pakistan should not be Arab-centric. This is civilisational disorientation in Pakistan. India and Pakistan have the same roots and just because we worship God or Allah should not make us enemies.

What is your solution to the problems faced by the BJP?

Any organisation needs water to bind it and the answer lies is Bhagwakaran (saffronisation). India's greatness would lie in Vidya (knowledge) and Charitra (character) , Rajju Bhaiya (Professor Rajendra Singh) once told me. I believe he had a point.

My job is to have a manthan (discussion) where both friends and those who do not subscribe to our theory can come together.

Can you emerge from the shadow of leaders like Mr Vajpayee and Mr Advani?

I don't have to. In fact, I do not even think in such terms. I am fortunate that these stalwarts are there to guide me. My post may be director but I will be a student seeking their advice, guidance. I will be providing inputs on ideology and governance. All policies would have to be looked at from our point of view and interpreted accordingly so that they can apply in the areas of their influence. We will be setting up chairs in the name of Pandit Deendayal Upadhyaya in areas where our nationalism is being challenged and assaulted. This is a very critical period.

What about the nationalism of the kind that Raj Thackeray propagates?

If you sow the seed of poison you would reap the hardest of hate. The fragmented polity of the country provides this kind of space that further divides society and fragments it. It is beneficial to those who are looking for such opportunities to get votes.

In Jammu and Kashmir and the north eastern states you cannot buy land despite the fact that you are a citizen of India. Things like Article 370 create problems.

भूख हमारे किसी एजेंडे में नहीं है

Published on :-Navbharat, 12 Sep 2008,

कोसी ने हमारे तन और मन दोनों की गरीबी उघाड़ दी। जो मन से गरीब हैं वें देश के तन की गरीबी दूर करने की जिम्मेदारी ओढ़े हुए हैं। कुछ दिन पहले अरुणा लिमये शर्मा की किताब पर सईदा हामिद और जस्टिस राजेन्द्र बाबू के साथ हिस्सा लेने का मौका मिला था। देश के हर जिले को एक साल में 1200 करोड़ रुपये मिलते हैं। बाबुओं और अफसरों की तनख्वाह के बाद 1200 करोड़ रुपये। यानी पांच साल में 6 हजार करोड़ रुपये।

फिर भी गरीबी दूर नहीं होती। एक - एक कुंआ आठ - आठ सहायता ऐजन्सियों की ग्रांट पी जाता है। महिला कल्याण , बाल कल्याण , ग्रामीण रोजगार सबके लिए एक से अधिक सरकारी विभागों का समानान्तर काम रेगिस्तान में पानी की एक बूंद की तरह छह हजार करोड़ सोख जाता है। गरीबी कहां से दूर हो ?

एक कहानी सुनी। सच्ची खबर। बिहार मे एक मजदूर थका हारा घर लौटा तो जल्दी खाना मांगा , खाने में नमक नहीं था। गुस्से में पत्नी को पीट दिया , वह वहीं मर गई। कुछ देर बाद उसकी बेटी घर लौटी। हाथ में डेढ़ रुपया था। बोली मां ने नमक लेने भेजा था , दुकानदार बोला डेढ़ रुपये में नमक नहीं मिलता सो लौट आई।

देखें : बिहार में बाढ़

गरीबी का स्तर और उसे मापने के तरीके पर योजना आयोग से लेकर यूएनडीपी तक कसरतें होती हैं। पर उससे क्या ? दिल्ली में किसी भी सड़क पर किसी भी रात घूम आइये। फुटपाथ पर पलते परिवार , कचरा बीनकर खाते बच्चे , गंदे नालों के किनारे दिन रात बिताते लोग , तिरंगे का कौन सा रंग बनाते हैं ? वे जो रेल लाइनों से शताब्दी रेलगाड़ी के साहबों का जूठा खाना बटोरते हैं ? वे इतने भर से खुश हो रहें हैं कि उनके नाम पर एक गरीब रथ चल रहा है ? और वे जो खेती करते - करते इतना कर्जा कमा लेते हैं कि अपने छोटे छोटे बच्चों और पत्नी को अपने हाथों से जहर देकर खुद भी खा लेते हैं ? वे किस मित्तल या टाटा के बढ़ते चमकते भारत के नागरिक हैं ?

सिंगुर में ममता की राजनीति और सीपीएम के बाजारवाद से हमें क्या लेना। गरीब किसान न इधर का रहा न उधर का। उसे तो कभी टाटा की नैनो लेनी नहीं थी। एक एकड़ जमीन टाटा को देकर जो उसकी कम्पनी मे चैकीदार बना उसकी तरक्की को कैसे मापा जाए। यह प्रश्न नैनो से बड़ा है। जो जमीन का मालिक था वह कार कम्पनी का नौकर बन गया। औद्योगीकरण जो करना था।

गांव कोई नहीं जाता , न उसको जानना चाहता है। गांव - शहर की झुग्गी झोपड़ी बस्ती बन जाए बस इसी तरक्की की दौड़ में हम लगे हैं। हम गलत कहते हैं कि भूखे भजन न होए गोपाला। भूख हमारे किसी एजेंडे में है ही नहीं। मंदिर है , मस्जिद है , चर्च है और हैं उसके ' फसल कटाई अभियान ' पर मनुष्य गायब है। सावरकर में दम था , आत्मविष्वास और नवीनता थी। सो वो सब कह गए जो हम में अब न कहने की हिम्मत है न सुनने की। इसलिये बदलाव का अंगार वो लेकर चलेंगें जो चौखटों और पिंजरों से परे हैं।

कोसी ने भी उन्हीं को छुआ जिनके घर मिट्टी के थे। दिल्ली के बंगले तो बचे रह गए। वे जो अपने घटिया , गलीज चेहरे लिए देश से सबसे बड़ा धोखा करते रहे , अमेरिका की चापलूसी , संधि के कागजों पर स्याही ओर नोट बिखेरते रहे , मंडी में बिके अब उन पर जिम्मेदारी आई है कि वे कोसी की पीड़ा से जूझ रहे लोगों में राहत राषियां दें , सामग्रियां मुहैया करवाएं। कोसी , तुमने इनको छोड़ा , उनको लीला , यह क्या हुआ ?

जब बाढ़ आती है , बड़े नरसंहार होते हैं , लोग बेघर , दीन - हीन बस भीगे कागज के मानिंद कुछ भी न कर पाने लायक खाली पथराई आंखों से तका करें , तब देश देख पाता है , अपनी प्रजा का चेहरा। दो रोटी और आलू के पैकेट झपटने को मारामारी करते लोग । भीगी धोती में आंसू का खारापन समोए , एक हाथ से सहमे , भूखे बच्चे को थामे पानी से निकलती स्त्रियां। कल घर था , आज शून्य है। बच्चे नहीं , पति नहीं , सामान नहीं , उम्मीद नहीं। जीना कब मौत से बदतर बनता है , कोसी ने बता दिया।

जमीन जहर हो गई , पानी मौत बन आया। दिल्ली अमेरिका से संधि के छल से निकलने की जुगत में है। कोसी तुम दिल्ली क्यों नहीं आईं , जहां सिर्फ पैसा है और श्वेताम्बरी फलाहारियों के घटिया पाखंड। बस से कार का शीशा टूट जाए तो ड्राइवर की जान ले ली जाती है। कसाई खाने में काम कम हो तो लोग डॉक्टर बन जाते हैं। गरीब था तो इलाज भी नहीं किया। धूर्तता में डिग्री ले ली तो टिकट मिलना आसान हो गया। तब गरीबी दूर करने की जिम्मेदारी निभाई जा सकती है।

ऐसी स्थिति में लक्ष्मणानंद सरस्वती की रक्षा कौन करता ? सरकार ने पूरी ईमानदारी से सोचा होगा कि यह 84 साल का बूढ़ा संन्यासी पागल है जो हरिद्वार , ऋषिकेश में मठों के शोरूम न खोलते हुए कंधमाल की जनजातियों में जान खपाने आया है। अगर कोई पहुंचा हुआ साधु होता तो दिल्ली के नेता उसकी खोज खबर भी लेने आते। वैसे भी गरीब जनजातियों में साधुओं का क्या काम ? वहां तो डॉलर वाले पादरी ही आते हैं। साधु मर गया तो मरने दो। अब उनकी संगमरमर की प्रतिमाएं बनेंगी। विधायक निधि से दो चार सड़कों के नाम भी उनके नाम पर रख दिए जाएंगे। स्मारिकाएं , विज्ञापन। जब तक जिन्दा थे कुछ नहीं हुआ। अब सब कुछ करेंगे।

बस अगर इस देश की नियति ही कोसी , कंधमाल और कश्मीर हैं तो दिल्ली में वायसराय रहे या उसके बावर्ची। ऐश करेंगे ही। कोसी तुम दिल्ली क्यों नहीं बहीं ? एक बांध टूटता है तो कोसी का रास्ता बदलता है। वह बांध टूटने वाला ही था। पता भी था । एंजिनियर भी गए थे , ठेकेदार भी। उस दिन नेपाल के विदेश मंत्री उपेन्द्र यादव मिले। बोले - हमरा कोनो कसूर नहीं। ठिकेदार अउर इंजीनियरवा गइल रहिन। परन्तु कमीसन पर झगड़ा हो गया। आप तो जानते ही हैं। सो बिना काम किए लौट गए। कमीशन पर झगड़ा हो गया। लाखों बेघर हो गए , बरबाद हो गए।

कौन करेगा जांच ? जरूरत भी क्या है। उससे कुछ मिलना थोड़े ही है ? राहत राशि बांटो। पहले सुनते थे अच्छे कर्म करने वाले गरीब और अन्त्यज नहीं बनते। अगर अच्छे कर्म का मतलब है मंडी में बिककर वित्ताधिपति बनना, तो गरीब अग्निपति बनना मंजूर पर वैसे कर्म अच्छे मानना नहीं। बस अपुन तो ऐसे ही हैं।

माओवादी प्रचंड ने भगवा नेताओं से बनाया पुल

Published on,18 Sep 2008,

राजशाही और हिन्दू राष्ट्र का संवैधानिक स्थान समाप्त होने के बाद उभरे संघीय गणतंत्र नेपाल के पहले माओवादी प्रधानमंत्री प्रचंड की भारत यात्रा नेपाल के लिए आशा से अधिक सफल रही। भारत में सभी दलों के प्रमुख नेताओं ने उनकी अगवानी की , भारत सरकार ने उन्हें दिल खोलकर सहायता के आश्वासन दिए , उनकी हर मांग पर सकारात्मक रूख दिखाया। यह सब उन माओवादियों के लिए कुछ ज्यादा ही था , जो गत बारह वर्ष , हिंसक आतंकवादी आंदोलन की ताकत के बल पर लोकतांत्रिक ढांचे में अपनी प्रभुता पाए हैं।

बारह वर्ष प्रचंड ने निरंतर भारत विरोध पर बिताए , पर इस यात्रा में उस अतीत की कोई परछाई नहीं दिखी। प्रचंड ने भी अपनी माओवादी गुरिल्ला छवि को लोकतांत्रिक , विनम्र और संस्कारी भारत मित्र की छवि में बदलने में कोई कसर नहीं छोड़ी। उनको इस बात का श्रेय दिया जाना चाहिए कि भारत आकर वह एक आत्मीय मित्र के नाते दिखे। उन्होंने कूटनीतिक जोखिम उठाते हुए यह भी बयान दिया कि नेपाल के लिए भारत का महत्व चीन से ज्यादा है।

सोनिया गांधी से मुलाकात में उन्होंने स्वर्गीय निर्मला देशपांडे की भावभीनी चर्चा से बातचीत को ‘ घरेलू ’ मोड़ दिया , तो लालकृष्ण आडवाणी को पशुपतिनाथ व जनकपुर धाम की यात्रा का न्यौता देते हुए इतने भावुक हो गए कि कह बैठे , ' आपसे मिलकर मुझे ऐसा लगा मानो अपने ‘ गार्डियन ’ ( अभिभावक ) से मिल रहा हूं। बीजेपी अध्यक्ष राजनाथ सिंह के यहां बीजेपी और आरएसएस के वरिष्ठ जन की उपस्थिति एक अत्यंत आसामान्य बात कही जाएगी।

अब तक प्रचंड हिन्दू परिवार द्वारा सबसे खतरनाक हिन्दू - विरोधी कम्युनिस्ट आतंकवादी कहकर निरूपित किए जाते रहे थे। यहां प्रचंड ने कहा , ' भारत व नेपाल के बीच जनकपुर और अयोध्या का संबंध है। राम व सीता का संबंध है। आर्थिक राजनीति , धरातल के ऊपर भावनात्मक है। हमारी मिट्टी की सुगंध एक है।

' राजनाथ सिंह ने प्रचंड की प्रशंसा में उनके नाम में शामिल ‘ कमल ’ को रेखांकित करते हुए साझी विरासत पर बल दिया और कहा आज हमारी अनेक गलतफहमियां दूर हो गईं। किसी कम्युनिस्ट नेता के लोकतांत्रिक होते ही भारत में इससे बढ़कर कोई चमत्कारिक सफलता क्या हो सकती है ?

प्रचंड के साथ आए प्रतिनिधिमंडल को काठमांडू से दिल्ली रवाना होते समय संदेह था कि क्या भारत में उनका स्वागत गर्मजोशी से होगा ? आखिरकार भारत हिन्दू बहुसंख्यक देश है और प्रचंड के नेतृत्व में नेपाल के माओवादी कम्युनिस्ट अब तक केवल हिन्दू प्रतीकों और श्रद्धा केन्द्रों को ही निशाना बनाते आए थे। माओवादियों के ही दबाव में गिरिजा प्रसाद कोइराला की अंतरिम सरकार ने संविधान द्वारा मान्य नेपाल की हिन्दू राष्ट्र की स्थिति को समाप्त करने का निर्णय लिया।

ऐसी परिस्थिति में प्रधानमंत्री प्रचंड की भारत यात्रा स्वाभाविक रूप से संदेह में लिपटी रही हो , तो इसमें आश्चर्य नहीं होना चाहिए। लेकिन , आश्चर्य की बात यह हुई कि हिन्दू बहुल भारत के किसी भी संगठन ने प्रधानमंत्री के नाते प्रचंड की पहली भारत यात्रा के समय किसी किस्म का कोई क्षोभ , दुख , क्रोध या अप्रसन्नता का लेश मात्र भी प्रकटीकरण नहीं किया। यह हिन्दू संगठनों की परिपक्वता कही जाएगी।

खास बात यह है कि प्रचंड अपने किसी भी मुद्दे पर झुके नहीं। वे लगातार इस बात पर अडिग रहे कि भारत के साथ सर्वाधिक महत्वपूर्ण 1950 की शांति और मैत्री संधि पर पुनः विचार करके दोबारा लिखा जाना चाहिए और विदेश सचिव ने इसे स्वीकार भी किया। अब इस बारे में विदेश सचिव स्तर की वार्ताएं चलेंगी। नेपाल में सफल नेता की छवि दिखाने हेतु भारत ने प्रचंड को यह बहुत बड़ा उपहार दिया।

हालांकि प्रचंड यह बताने में असमर्थ हैं कि इस संधि में ऐसा क्या है जो नेपाल के अहित में है , जिसे बदले जाने की अनिवार्यता वह महसूस करते हैं। वह सिर्फ इतना कहते हैं कि चूंकि यह संधि बहुत पुरानी हो चुकी है और उस समय की गई थी जब नेपाल में सामंतशाही का शासन था , इसलिए इसे बदला जाना जरूरी है। लेकिन , वह इस बात का जवाब नहीं देते कि नेपाल के साथ चीन की 1960 में जो संधि हुई थी , उस समय भी नेपाल में राजा का शासन था , जो प्रचंड के शब्दों में सामंतशाही का प्रतीक था। इस कारण भी उस संधि की भी क्यों न समीक्षा की जाए और क्यों न उसे भी बदला जाए ? वह केवल भारत से की गई संधि की मांग क्यों उठाते है ?

प्रचंड चुनावों में स्पष्ट बहुमत न मिल पाने के कारण तीन पार्टियों की गठजोड़ सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं। सरकार में उनके सहयोगी दल हैं कम्युनिस्ट पार्टी , नेपाल एकीकृत माओवादी - लेनिनवादी ( एमाले ) और मधेशी जनाधिकार फोरम। दोनों दल माओवादी विचारधारा के विरोधी हैं , इनके समर्थक तो कतई नहीं। ऐसी स्थिति में प्रचंड के लिए पूरे तौर पर माओवादी विचारधारा के अनुसार सरकार चलाना कितना संभव होगा ?

जो भी हो , देखना यह है कि नेपाल की जनता को इस नवीन परिवर्तन से कुछ लाभ होगा कि नहीं। नेपाल इस समय भयंकर आर्थिक चुनौतियों का सामना कर रहा है। 12 साल चले माओवादी हिंसक आंदोलन के दौरान प्रचंड ने अपनी सहयोगियों , समर्थकों और आम जनता को खुलकर सपने और आश्वासन बांटे थे। प्रचंड के सामने नेपाल की सेना में माओवादी गुरिल्लाओं की भर्ती का भी प्रश्न है - इसका सेना की ओर से विरोध है , पर दूसरी ओर प्रचंड अपने कार्यकर्ताओं को वचन दे चुके हैं।

58 प्रतिशत साक्षरता दर ( महिलाओं की साक्षरता दर 34.9 प्रतिशत ) और प्रति व्यक्ति आय सिर्फ 320 डॉलर पर नेपाल दुनिया के सबसे अधिक निर्धन देशों में गिना जाता है। वहां ढांचागत सुविधाएं न के बराबर हैं तथा एन्जिनियरिंग , मेडिकल , टेक्नॉलजी आदि के क्षेत्र में नेपाल के तेजस्वी और स्वाभिमानी युवकों को या तो भारत में आना पड़ता है या न्यूजीलैंड , ऑस्ट्रेलिया , ब्रिटेन या अमेरिका की ओर देखना पड़ता है।

नेपाल , अमेरिकी और यूरोपीय दानदाता एजंसियों की भी बहुत बड़ी क्रीड़ास्थली बन गया है , जो भारी मात्रा में डॉलर अनुदान के जरिए नेपाल के हिन्दुओं का धर्मान्तरण कर रही हैं। नेपाल के साथ भारत की 1850 किलोमीटर खुली सीमा मदरसों और आतंकवादी गतिविधियों से ग्रस्त है। अभी तक नेपाल जाने के लिए भारतीयों को किसी पासपोर्ट या वीज़ा की आवश्यकता नहीं होती थी। परंतु सुरक्षा की दृष्टि से अब इस स्थिति में शीघ्र ही परिवर्तन करना पड़ सकता है।

विशेषकर भारत में जाली नोटों के प्रसार और जिहादी गतिविधियों को संचालित करने के लिए नेपाल आईएसआई और बांग्लादेशी जिहादियों का भी केन्द्र है। क्या इन सब पर नई सरकार नियंत्रण रख पाएगी। जो भी हो , असामान्य पड़ोसी देश के विश्वास पर विश्वास रखते हुए चलें , यही दिल्ली व काठमांडू के बीच वर्तमान राजनय की मांग है।

सिमरन के आंसू तो सूख गए...

Published on :-, 24 Sep 2008,

नवत्ररात्र निकट है , कन्यापूजन का समय। घर बुलाकर पांव पूजेंगे , दक्षिणा देंगे। शक्ति का आह्वान करेंगे। व्रत रखेंगे। फिर वही सिमरन का आंसुओं में डूबा चेहरा अखबार में छापकर एक दर्द भरी मार्मिक स्टोरी करेंगे।

सिमरन भी तो कन्या है। दुर्गा स्वरूपा। शक्ति प्रदायिनी। दुर्गा के आंसू आज भारत में सिर्फ अखबार की स्टोरी ही हैं। सिमरन खबर है - नए संवाददाता की भाषाई पकड़ की परीक्षा है। आतंकवाद ग्रस्त जनता का दर्द कितने प्रभावी ढंग से प्रस्तुत किया जा सकता है , इसका अवसर मात्र है। कैमरामैन का लेंस उस बच्ची के चेहरे पर मां से न मिल पाने की मायूसी कैसे पकड़ पाता है , इसकी महारत दिखाने का मौका है। मां कैसे बताए कि आतंकवादी विस्फोट में उसके पिता और दादा दोनों खत्म हो गए। अब उस मां के दर्द को शब्दों में बयान कीजिए। देखें दस में से कितने अंक आप ला पाते हैं।

आतंक ने हमारी जिंदगी बदल दी है। हमारे शब्द , वाक्य विन्यास , मुहावरे , और रिश्ते। जैसे आसानी से बस , रिक्शा , रेल कहते हैं वैसे ही कहते हैं आरडीएक्स , टाइमबम , एके -47, जिहादी। कोई अचीन्हा अटैची मत छूना , मोबाइल बम , पैन बम , रेल में सफर करते वक्त आजू - बाजू ध्यान रखना , हवाई अड्डे पर एक घंटा पहले पहुंचना , पुलिस कंट्रोल रूम , लश्करे तोएबा , जैशे मुहम्मद , इंडियन मुजाहिदीन , हुर्रियत , ओसामा ... ये सब नए नाम हमारी रोजाना की जिंदगी में कब जुड़ गए पता नहीं चला।

प्रधानमंत्री से ज्यादा अहमियत राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के बयानों की हो गई है - पहले ईद की सेवइयों के चर्चे होते थे। अब इफ्तार की राजनीति के जोखिम हैं। दो सौ की सभा में दो मुसलमान हों तो भाषा बदल जाती है - घर में इखलाक या सईद दोस्त आएं तो बात इधर - उधर की करेंगे , कोशिश होगी ये जिहादी आतंकवाद चर्चा में न आए। क्यों ? क्या इससे मुसलमान परेशान नहीं होता ? ओसामा और लश्कर के सामने ‘ सेकुलर बैलंस ' करना है तो दो चार हिन्दुओं को भी उसी श्रेणी में खड़ाकर आत्मा तृप्त होती है।

असलियत यह है कि आतंक से लड़ना या उसे खत्म करना हमारे किसी एजेंडा का हिस्सा ही नहीं है। आतंक , घुसपैठ , वगैरह का इस्तेमाल करना ही बच रह गया है। कुछ अच्छे नारे , कुछ दमदार पोस्टर , चुनाव में अपने - अपने वोट बैंक संभालने की जुगत , आंकड़े और घटनाओं की कुछ इस किस्म से तैयार की जाने वाली फेहरिस्त , कि जो पक्ष हमारा विरोधी है उसे अपने शब्द प्रहारों से धूलि - धूसरित किया जा सके। भई वाह , क्या भाषण था आपका !

आश्चर्य होता है कैसे यह देश खुद ही खुद को खत्म होते देख उत्सव मनाता है। हर दुर्घटना एक नए जलसे का सृजन कर जाती है। दिल्ली में विस्फोट हुआ तो क्राइसिस मैनेजमेंट कैसे करें ? मीडिया में छवि बहुत खराब बन रही है - तो कुछ नई जोरदार घोषणाएं करते हैं - पुलिस बल बढ़ाएंगे , नए थाने खोलेंगे , कुछ हजार करोड़ नई राइफलों पर खर्च करेंगे - अच्छा चलो बता दो एक नया कानून भी बना रहे हैं। बहुत शोर मचाया हुआ था , चुनाव तो आ ही गए हैं , कानून बनते - बनते जाने क्या हो।

सिमरन के आंसू तो सूख गए।

सौभाग्य माहेश्वरी सिमरन।

महिषासुरमर्दिनी सिमरन।

दुष्ट दलन करने वाली सिमरन।

दुर्गति नाशिनी दुर्गा सिमरन।

सिर्फ आंसू का तालाब सिमरन।

भक्ति जारी है। जागरण , भागवत कथाओं , प्रवचनों की तादाद बढ़ती जा रही है। मल्टीनैशनल कॉरपोरेशनों की तरह आश्रमों के बहुराष्ट्रीय संस्करण और हर राजनेता का एक - एक अनुयायी मठाधीश। बिना राजनेता के आश्रम भी फीके - फीके , सूने - सूने लगते हैं। स्थानीय प्रशासन भी मदद के लिए तब तक हरकत में नहीं आता जब तक महाराज जी के उच्च स्तरीय कनेक्शन न पता चलें।

अब सिमरन की फोटो नहीं छपेगी , पुरानी खबर जो गयी। कुछ नया विस्फोट हो तो इस बार जूम लैंस और नए करारे मुहावरों का इस्तेमाल किया जाए। अब लिस्ट में लेखकों के नाम कम , कुछ ‘ माडरेट ’ मौलाना , कुछ पक्के जिहादी , एक आध तेज तर्रार भगवा और एक मध्यमार्गी - बस इत्ते भर से चैनल का शो मजेदार हो जाएगा - बहुत मेहनत से जुगाड़ करना पड़ता है , इन्हें इकट्ठा करने को। कोई भी , ऐंकर ही सही एक उत्तेजक वाक्य बोल दें तो एक घंटे तक वो चख - चख चलती है कि भई मजा आ जाए। बॉस कह रहे थे , पिछले शो की रेटिंग अभी तक सबसे हाई चल रही है।

सिमरन को उसकी मां अभी तक यह समझा नहीं पाई कि उसके पिता और दादा को अचानक क्यों जान गंवानी पड़ी। क्या किया था उन्होंने ? और वे कौन थे जो मार गए ? ये ‘ क्यों ’ बड़ा खतरनाक सवाल है। जाती दुश्मनी का तो कोई सवाल ही नहीं उठता। गुस्सा तो आता है - पर सच बात यह है कि भरोसा टूट गया। कोई भी हो , नेता या पार्टी - वह सच में सिमरन के आंसू पोंछने के लिए कुछ करेगी , यह भरोसा अब है नहीं। भरोसा टूट जाए तो बचता क्या है ? चुनाव पेटी ?

दिल्ली ने तो वह नहीं सहा जो कश्मीर के हिन्दुओं ने सहा। क्या हुआ ? हिन्दू तो वहां रहे नहीं , पर दो निशान ( यानी भारत का तिरंगा अलग और कश्मीर का लाल झंडा अलग ), दो विधान तो अभी भी हैं। क्या हुआ ? संजू बाबा कितने स्वीट हैं - जुर्म साधारण न भी हो तो भी क्या हुआ ? अफजल बाबा को तो छोड़ देना चाहिए , वरना कश्मीरी नाराज हो जाएंगे। जिहादी वेबसाइट देखी है - इस्लाम का गाजी कुफ्र शिकन , मेरा शेर ओसामा बिन लादेन। तो क्या हुआ ? अपने ही हैं। बांग्लादेशियों को भारतीय नागरिक बनाने की मांग के पीछे भी तो देशभक्ति का चरम है। सारी दुनिया को हम भारत की नागरिकता दे देंगे तो विशाल विराट भारत जगतमय न हो जाएगा ? समझा करो जी।

आजमगढ़ जाना तो नया सेकुलर विधान है। तीर्थ नहीं कह सकते - शब्द ही साम्प्रदायिक है , कुछ और कहें तो डर लगता है। भाई पकड़ा गया तो हमदर्दी जतानी ही थी। फिर सिमरन के आंसू देखने का वक्त कहां है ? काम इतने बढ़ गए हैं - जबसे ये विस्फोट हुए , कि अब पहले से भी कम फुर्सत मिलती है।

सिमरन पूछती है - मेरे पापा को क्यों मारा ?

हम कहेंगे सारी दुनिया हमारा कुटुम्ब हैं। शास्त्र , वेद , पुराण बांचेंगे। आदमी को जात की पहचान से जानेंगे और पड़ोसी को रोजे रखते देख उम्र बीत जाएगी पर कभी यह न जानेंगे कि रमजान होता क्या है , मुहम्मद ने कहां कब और क्यों युद्ध किए थे , बिस्मिल्लाह और श्री गणेश में साझापान क्या है ? बस , बर्फ जमा कर बैठे हैं। और कथा बांचते हैं इंसानियत के उत्कर्ष की। साझी लड़ाई साझेपन से लड़ी जाएगी या बर्फ की दीवारों को सहेज - सहेज कर रखते हुए ? गीता पढ़ने से मुसलमान का दीन खत्म होता है या कुरान पढ़ने से हिन्दू भ्रष्ट होता है कौन बताएगा ? कितनी सदियां बीत गयीं ? जैसे भी हुए , जो भी हुआ , पर जमीन , आसमान , जुबान , नस्ल , पहनावा और पूर्वज तो एक ही थे न। 1857 तो साथ - साथ लड़ा था। गोरे , बिधर्मी , म्लेच्छों के खिलाफ ? आज वही गोरे ज्यादा प्यारे और हम दुश्मन ?

सिमरन को तो रोना ही पडे़गा जब तक बात साझेपन की न चले।

इसे वे तो नहीं चला सकते जो कुरेश , सिद्दीकी , शेख और सईद में बंटे हैं या सवर्ण , निम्न जाति , पिछड़े , अति पिछड़े में वोट ढूंढते हैं। खुल के सामने आओ। जात हिन्दुस्तानी बताओ , तो न अल्लाह नाराज होगा, न राम जी।

पर हम लगें है इश्तिहारों की राजनीति में। राम , कृष्ण के भद्दे मजाक बनाकर वे किताबें छापें , गांव के लोग गुस्सा कर तोड़ - फोड़ , मारपीट करें , तो चल यूएनओ - देखो भारत में ईसाई होना गुनाह है। भाई , अगर चर्च पर गलत निगाह से देखना पाप है तो दूसरे के आराध्य छीनना पुण्य होगा क्या ? ऐसा कहना , लिखना भी साइबेरिया - गुलाग के नवसर्जकों की मेजों पर वर्जित कर दिया जाना स्वीकार्य व्यवहार में शामिल हो गया है।

दुर्गा सौम्या है , सुन्दर है , वत्सला है , विद्या प्रदायिनी परमेश्वरी है , महालक्ष्मी है - पर दुष्ट को कभी न क्षमा करने वाली भी तो है। उसका सौम्य रूप शिवा बनकर ही सौभाग्य स्थिर करता है। सौम्य हो , पर महिषासुर मर्दिनी न हो तो अधूरापन रहेगा। यही है देवी तत्व , जो देश को आतंक के रात्रिकाल से निकाल सकता है। यह देवी तत्व सिमरन के आंसू बन बहे तो फिर - फिर वही महिषासुरवाद चलता रहेगा जिसे आज सेकुलरवाद भी कहते हैं।

हिन्दू पाखंड से लडेंगे तो धर्म बचेगा

Published on :- , 6 Oct 2008,
उड़ीसा में जो कुछ भी ईसाई चर्च और ननों पर आक्रमण के रूप में दिख रहा है उससे वे सामान्य हिन्दू भी दुखी हैं जो अन्यथा ईसाइयों के छल, बल और कपट से किए जाने वाले धर्मान्तरण के विरोध में तीक्ष्ण मत प्रकट करते हैं।
हिन्दू धर्म विश्व में सर्वाधिक शालीन, भद्र, सभ्य और ‘ वसुधैव कुटुम्बकम् ’ की भावना प्रसारित करने वाली जीवन पद्धति है जो किसी संप्रदाय या पंथ से व्याख्यायित नहीं हो सकती। सर्वोच्च न्यायालय ने भी अपने हिन्दुत्व संबंधी फैसले में स्पष्ट कहा कि हिन्दू धर्म सम्प्रदाय नहीं बल्कि संपूर्ण वैश्विक दृष्टि रखने वाली जीवन पद्धति है। इस जीवन पद्धति के आधुनिक उद्गाता महापुरुषों में स्वामी विवेकानंद, स्वामी दयानंद सरस्वती, शाहू जी महाराज, लाला लाजपत राय, बालगंगाधर तिलक, श्री अरविंद, महात्मा गांधी, डॉ. हेडगेवार, वीर सावरकर प्रभृति जननायक हुए। उन्होंने उस समय हिन्दू समाज की दुर्बलताओं, असंगठन और पाखण्ड पर चोट की। तेजस्वी-ओजस्वी वीर एवं पराक्रमी हिन्दू को खड़ा करने की कोशिश की।
उन महापुरुषों को आज के नेताओं से छोटा या कम बुद्धिमान नहीं कहा जा सकता। महात्मा गांधी ने दुनिया में एक आदर्श हिन्दू का ऐसा उदाहरण प्रस्तुत किया कि आज सारी दुनिया भारत को महात्मा गांधी के देश के नाम से जानती है। डॉ. हेडगेवार ने भारत के हज़ारों साल के इतिहास में पहली बार क्रांतिधर्मा समाज परिवर्तन की ऐसी प्रचारक परम्परा प्रारम्भ की जिसने देश के मूल चरित्र और स्वभाव की रक्षा हेतु अभूतपूर्व सैन्य भावयुक्त नागरिक शक्ति खड़ी कर दी। इनमें से किसी भी महानायक ने नकारात्मक पद्धति को नहीं चुना। सकारात्मक विचार ही उनकी शक्ति का आधार रहा।
स्वामी दयानंद सरस्वती ने पाखंड खंडनी पताका के माध्यम से हिन्दू समाज को शिथिलता से मुक्त किया और ईसाई पादरियों के पापमय, झूठे प्रचार के आघातों से हिन्दू समाज को बचाते हुए शुद्धि आंदोलन की नींव डाली। जिसके परिणामस्वरूप हिन्दू समाज की रक्षा हो पाई। स्वामी विवेकानंद और स्वामी रामतीर्थ ने विश्वभर में हिन्दू धर्म के श्रेष्ठतम स्वरूप का परिचय देते हुए ईसाई और मुस्लिम आक्रमणों के कारण हतबल दिख रहे हिन्दू समाज में नूतन प्राण का संचार करते हुए समाज का सामूहिक मनोबल बढ़ाया।
विडंबना यह है कि आज हिन्दू समाज अपनी ही दुर्बलताओं और आपसी फूट का शिकार होकर कुंठा और क्रोध की अभिव्यक्ति कर रहा है। उस पर चारों ओर से हमले आज भी जारी है। जिस भारत को अपने हिन्दू होने पर सर्वाधिक गर्व करना चाहिए था, उस भारत को अपने हिन्दुत्व पर शर्म करने के पाठ सिखाए जाने लगे तो इसका सामाजिक तनाव और राजनीतिक ध्रुवीकरण के रूप में जो परिणाम होना था वह हुआ ही।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के हिन्दू आग्रह और हिन्दू नवोन्मेष को भारतीय धर्म की सात्विक और सकारात्मक धारा के रूप में मान्य करने के बजाय उसे दो बार प्रतिबंधित किया गया। सेकुलर प्रहार से हिन्दू स्वर साइबेरिया और गुलाग जैसे श्रम शिविरों की स्थिति में धकेल दिया गया है। किसी भी तथाकथित मुख्य धारा के समाचार-पत्र, चैनल या मंच पर उस हिन्दू का स्वर वर्जित और प्रतिबंधित है, जिस हिन्दू स्वर ने केन्द्रित सत्ता में भी आने का जनादेश, का ही सही किंतु प्राप्त कर दिखाया था और जो आज देश के विभिन्न प्रांतों किसी भी सेकुलर राजनीतिक व्यवस्था से ज़्यादा प्रभावी एवं महत्वपूर्ण स्थिति प्राप्त कर चुके हैं।
राजनीति में यह वैचारिक अस्पृश्यता और घृणा जनित आक्रमण हिन्दू को एवं प्रतिशोधक आक्रामकता के तेवर अपनाने की ओर धकेल रहा है। यह न देश के लिए ठीक है न उन सेकुलरों के लिए जिनका स्वर जिहादी घृणा का स्वरूप प्रकट करता है और असंदिग्ध रूप से वह हिन्दू समाज के व्यापक हितों को तो पूरा ही नहीं करता।
हिन्दू बहुसंख्यक देश में 5 लाख हिन्दुओं का शरणार्थी के रूप में निर्वासन पूरे भारत के लिए कलंक और शर्म की बात है। हिन्दुओं का मतांतरण बहुत ही तीव्र गति से जारी है और इसके लिए अमेरिका तथा यूरोप से प्रतिवर्ष अरबों डॉलर चर्च संगठनों को दिए जा रहे हैं। केन्द्रीय सत्ता में एक ऐसे सेक्युलर राजनीतिक गठबंधन का शासन है जो हिन्दू संवेदनाओं पर प्रहार करना अपने सेक्युलर पंथ की पहली पहचान मानता है। इसके राज्य में हिन्दुओं पर हमले बढ़े हैं। हिन्दू संवेदनाओं का अपमान सामान्य राजकीय पद्धति का अंग मान लिया गया है। रामसेतु तोड़ने और राम के अस्तित्व को नकारने जैसी घटनाओं, मज़हब के आधार पर मुस्लिम आरक्षण तथा आतंकवाद के विरूद्ध मुहिम में मुस्लिम तुष्टिकरण के कारण ढिलाई जैसे घटनाक्रमों ने हिन्दू मन को बेहद आहत किया।
यदि वास्तव में हिन्दू संगठनों और राजनीतिक हिन्दू नेताओं की बेहतर साख होती तो हिन्दुओं का क्रोध हिंसक रूप नहीं लेता जैसा कि उड़ीसा और मंगलौर में दिखा। हिन्दुओं के इस रूप की निन्दा कर सेक्युलर भाषा बोलने से भी समाधान नहीं निकलेगा। आज हिन्दुओं को चारों ओर से घेर दिया गया है। हिन्दू संत की हत्या पर न अमेरिका में आवाज उठती है न वेटिकन में और दिल्ली के राजनेता वोट बैंक के भय से सन्नाटा ओढ़े रहते हैं। क्या कोई बता सकता है कि देश भर में हिन्दुओं के कितने विद्यालय कंधमाल में स्वामी जी की हत्या के विरोध में बंद रहे? ईसाइयों ने देशभर के 2500 विद्यालय हिन्दुओं के विरोध में बंद करने का साहस दिखाया जबकि अधिकांश विद्यालयों में हिन्दू विद्यार्थी ही पढ़ते हैं। यानि हिन्दू विद्यार्थियों का इस्तेमाल हिन्दुओं को ही आक्रामक सिद्ध करते हुए उन्हें बदनाम करने के लिए किया गया ।
यह स्थिति हिन्दुओं के असंगठन से पैदा होती है। हिन्दुओं के बड़े नेता प्रभावशाली उद्योगपति और समाज के अग्रणी शिक्षाविद् हिन्दू संवेदना पर चोट के समय खामोश रहते हैं। जब मैं वनवासी कल्याण आश्रम में प्रचारक था तो जिन उद्योगपतियों से 1500 रुपये की सहायता लेने के लिए मुझे 2-2 घंटे उनका कमरे के बाहर प्रतीक्षा करनी पड़ती थी, वही उद्योगपति मदर टेरेसा के घर जाकर लाखों रूपये दे आते थे जबकि वह पैसा हिन्दुओं के धर्मान्तरण के लिए ही खर्च होता था।
अगर हिन्दुओं को भारत वर्ष में अपनी धर्म संस्कृति और सभ्यता बचाने का हक नहीं होगा तो क्या यह काम वह सऊदी अरब में कर सकेंगे? सैकड़ों सालों से भारत में जन्मे पंथों पर विदेशी आक्रमण हुए। इन पंथों में वैदिक सनातनी सिख, जैन, बौद्ध आदि शामिल हैं। परन्तु आज़ादी के बाद इन्हीं पंथों पर जिहादी और ईसाई मतांतरण के आक्रमण बढ़ते गए। क्या हमें अपना धर्म बचाने का हक नहीं? यह हक अपने समाज के भीतर व्याप्त पाखण्ड को दूर करते हुए तथा पंडों, पुजारियों और ऊंची जात का अहंकार रखने वाले लोगों से धर्म को वंचित तथा वनवासी समाज के लिए समान रूप से ले जाने पर ही मिल सकता है।
दुर्गा की पूजा करना और फिर कन्या भ्रूण हत्या करना, देवी से धन, विद्या, शक्ति मांगना फिर दहेज न लाने पर उसी देवी को जलाकर मार डालना तीर्थ और मंदिर गंदे रखना तथा हिन्दू द्वारा ही हिन्दुओं के विरोध में खड़ा होना आज के हिन्दु-समाज की समस्याएं हैं। अगर हम इकट्ठा हो गए तो न जिहाद जीत सकता है और न ही मतांतरण की शक्तियां ।
यही समय की आवश्यकता है न कि चर्च पर हमले।

हिन्दू क्यों बदल रहे हैं?

Published on :- Navbharat Times, 15 Oct.2008

क्या भारत के ईसाइयों के लिए यह उचित था कि वे उस स्थिति में, जबकि देश में एक ईसाई नेता के नेतृत्व में बहुसंख्यक हिन्दुओं ने सत्ता राजनीति को स्वीकार किया है, विदेशी ईसाई सरकारों से अपनी ही सरकार को डपटवाकर खुश होते? पश्चिमी देशों की सरकारों ने सिर्फ ईसाई होने के नाते भारत के ईसाइयों के बारे में आवाज उठाई। उसके पीछे सिर्फ एक कारण था - वे अपने मजहबी विस्तारवाद को निष्कंटक बनाने के लिए चिन्तित थे। क्या भारत के ईसाइयों को लगता है कि अगर उनके बारे में विदेशी ईसाई सरकारें आवाज उठाती हैं तो यह उनके लिए गौरव की बात है और क्या इससे उनकी वेदना दूर हो जाएगी?
जिन हिन्दुओं ने भारत में कभी उपासना पद्धति और संप्रदाय के आधार पर कभी किसी से कोई भेदभाव नहीं किया, जिन्होंने ईसाई, मुस्लिम, पारसी, यहूदी आदि सभी बाहर से आने वाले मजहबों को यहां फलने-फूलने दिया और अरब, तुर्क, मुगल, ईसाई, ब्रिटिश और पुर्तगालियों के बर्बर हमलों के बावजूद उनके मजहबी उत्तराधिकारियों से कभी घृणा नहीं की, बल्कि राष्ट्रपति, गृहमंत्री, गृहसचिव, कैबिनेट सचिव, वायु सेना अध्यक्ष, सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश, विदेश सचिव जैसे पदों पर ही नहीं बल्कि मीडिया, फिल्म और खेल जगत में मजहबी भेद भूलकर मुस्लिम और ईसाइयों को दिल से स्थापित होने के रास्ते खोले, उन्हें सम्मानित किया तथा उनके प्रशंसक और अनुयायी बनने में कोई संकोच नहीं किया, ऐसे हिन्दू से मित्रता और उनकी भावनाओं का सम्मान करने के बजाय उनकी संख्या कम करने के लिए विदेशी मदद लेना क्या दर्शाता है?
जब सर्वपंथ समभावी हिन्दू कट्टर जिहादी मुस्लिमों और देश तोड़ने वाले आक्रामक ईसाइयों की नफरत का शिकार बनाए जाते हैं तो हिन्दुओं की सदाशयता और उदार हृदयता में अपराधी कायरता दिखने लगती है। वे सोचते हैं संभवतः इस सेकुलर धर्मिता के आवरण में उनकी सर्वपंथ समभाव की भावना को तिरस्कृत किया जा रहा है। तब उनका क्रोध सीमा उल्लंघन करना ही उचित मानता है।
यह वह हिन्दू है जो उन श्रीराम की उपासना करता है, जिन्होंने पहले शत्रु को समझाने की बहुत कोशिश की, लेकिन जब वह नहीं माना तो फिर उसके संहार के लिए जनशक्ति का एकत्रीकरण कर विजय प्राप्त की।
राष्ट्रीय एकता परिषद की बैठक मजहबी ध्रुवीकरण में बंटी दिखी जिसमें सेकुलर कहे जाने वाले दलों ने आतंकवाद के विरूद्ध एकजुट सामूहिक अभियान का वातावरण बनाने के बजाए उन तत्वों के संरक्षण का परचम निर्लज्जता से लहराया जो भारत के खिलाफ युद्ध के अपराधी हैं। किसी भी सेकुलर नेता ने हिन्दू और मुस्लिमों की सांझी लड़ाई की बात नहीं की। बल्कि छोटे-छोटे मुद्दों पर अखबारों में सुर्खियां हासिल करने का बचपना दिखाने की कोशिश में वे एकता परिषद को सिमी और बजरंग दल के दो पालों में ध्रुवीकृत कर गए। राष्ट्रीय एकता परिषद का उद्देश्य सब लोगों को साथ में लेकर राष्ट्र हित में एक ऐसा वातावरण सृजित करना कहा जाता है, जो घृणा, विद्वेष तथा राजनीतिक अस्पृश्यता से परे हो। लेकिन हुआ ठीक वही जो अपेक्षित नहीं था।
वास्तविकता में स्वयं को सेकुलर कहने वालों का हिन्दू विद्वेष देश में भयानक मजहबी ध्रुवीकरण पैदा कर रहा है, जो विभाजन पूर्व की राजनीति का कटु यथार्थ स्मरण दिलाता है।
कहीं भी किसी भारतीय पर कोई आघात हो तो उसके विरूद्ध राज्य, राजनीति और प्रजा के चिंतकों का सामूहिक उद्वेलन और प्रतिरोध सर्वपंथ समभाव पर आधारित सेकुलरवाद का स्वाभाविक चरित्र होना चाहिए। लेकिन जिस प्रकार आज सेकुलरवाद का व्यवहार किया जा रहा है, वह केवल अहिन्दुओं के प्रति ही संवेदनशील है। इस बारे में असम का उदाहरण ताजा है।
असम के दारंग और होजाई क्षेत्रों में इन दिनों भयंकर हिंसा चल रही है। 60,000 से अधिक लोग सरकारी शिविरों में शरण लेने के लिए बाध्य हो गए हैं। बोडो हिन्दू जनजातियों के 40 गांव जला दिए गए हैं। उदालगुडी के पास एक गांव के प्रमुख (गांव बूढ़ा) उनकी मां और बहन को मुस्लिमों ने जिंदा जला दिया। 40 से अधिक जनजातीय बोडो हिन्दुओं की हत्या की जा चुकी है। लेकिन दिल्ली में इस बारे में शायद ही कोई आवाज उठी। गांव उजड़ गए, परिवार जिंदा जला दिए गए, फिर भी राजनीति और सेकुलर मीडिया में सन्नाटा छाया रहा। क्या इसकी वजह यह है कि जिनके गांव ध्वस्त हुए और जो जिंदा जलाए गए, वे हिन्दू थे? कंधमाल पर हमने केवल एक मजहब की पीड़ा पर वैटिकन से वॉशिंगटन और पैरिस तक शोर सुना। सवाल है कि हिन्दुओं की वेदना पर कौन बोलेगा?
आक्रामक ईसाई नेता इस बात का विरोध करते हैं कि वे अंग्रेजों या पुर्तगालियों के साए तले भारत में ईसाइयत का प्रचार करने आए। लेकिन सच यही है। हाल ही में मुझे एक पुस्तक पढ़ने को मिली जिसका विषय राजस्थान में ईसाई मिशन का विस्तार था। यह पुस्तक ईसाई मिशन के प्रति अत्यंत सहानुभूति रखते हुए उनके प्रति आत्मीय प्रशंसा भाव के साथ राजस्थान विश्वविद्यालय के प्रो. श्यामलाल ने लिखी है और विश्वविद्यालय के तत्कालीन उपकुलपति श्री हरि मोहन माथुर ने इस पुस्तक को एक महत्वपूर्ण शोध बताकर इसके पठन-पाठन हेतु संस्तुति की है।
पुस्तक के लेखक ने अनेक चर्चों और मिशन के कार्य से जुड़े ईसाई जनजातीय व्यक्तियों एवं चर्च अधिकारियों के प्रति हार्दिक कृतज्ञता व्यक्त की है। इसमें उदयपुर क्षेत्र में प्रसिद्ध भील जनजातीय स्वातंत्र्य आंदोलन के नेता गोविंद गुरू के 1,500 से अधिक भील अनुयायियों के मानगढ़ की पहाड़ी पर किए गए नरसंहार का विवरण है। यह नरसंहार मेजर हैमिलटन के नेतृत्व में किया गया था। भीलों के पास केवल तीर धनुष थे और ब्रिटिश मेजर हैमिल्टन की फौज के पास बंदूकें थीं। उस रात 1500 से अधिक भील हैमिल्टन की फौज ने मारे। इसे राजस्थान का जलियांवाला बाग कहा जाता है।
इस हत्याकांड के बाद मेजर हैमिल्टन ने नीमच स्थित प्रैसबिटेरियन मिशन के पादरी रेवरेन्ड डी. जी. कॉक को चिट्ठी लिखकर भील जनजातियों के बीच चर्च स्थापित करवाया। अर्थात् पहले हिन्दू जनजातियों का नरसंहार कर उनमें भय और आतंक पैदा किया, उसके बाद चर्च की स्थापना कर उनका धर्म समाप्त करने का अभियान छेड़ा। अस्पताल, स्कूल इत्यादि ईसाई विस्तारवादी अंतिम लक्ष्य को प्राप्त करने के साधन हैं, केवल सेवा के निर्मल उद्देश्य से प्रारंभ किए जाने वाले कार्य नहीं। यदि ऐसा होता तो देश के 2500 ईसाई विद्यालय, जिनमें ज्यादातर हिन्दू विद्यार्थी ही पढ़ते हैं, केवल ईसाई वेदना पर बंद किए जाने के बजाय आतंकवादियों द्वारा चलाए जा रहे जिहाद के खिलाफ भी कभी बंद किए जाते। परन्तु ऐसा कभी नहीं किया गया। ये आक्रामक ईसाई कभी सामान्य भारतीय के दुख दर्द में शामिल नहीं होते। बल्कि जैसे पहले उन्होंने अंग्रेजों की मदद ली थी वैसे ही आज अमरीका, वैटिकन और फ्रांस जैसे ईसाई देशों की मदद लेने में संकोच नहीं करते।
परन्तु जैसे सारे मुसलमान जिहादी नहीं, वैसे सारे ईसाई आक्रामक या हिन्दुओं के प्रति नफरत रखने वाले नहीं होते। परन्तु जैसे भारत के विरूद्ध उठने वाली हर आवाज का मजहब और भाषा के भेद से परे उठते हुए विरोध किया ही जाता है, उसी तरह से हिन्दू विरोधी सेकुलर आवाजों का विरोध क्यों नहीं किया जाता? एक पत्रिका ने हाल ही में हिन्दुओं की निंदा करने के लिए त्रिशूल के चित्र पर ईसा मसीह को सलीब की तरह टंगा हुआ दिखाया। यह चित्र वस्तुतः हिन्दुओं को उड़ीसा के संदर्भ में बर्बर और आतंकवादी दिखाने के लिए छापा गया। क्या आज तक आपने किसी नागालैण्ड के ईसाई आतंकवादी या इस्लामी जिहादी के हिन्दू विरोधी प्रतीकात्मक चित्र पर हिन्दुओं की मृत्यु का अंकन देखा है? हिन्दू के विरूद्ध यह एकांतिक और अन्यायपूर्ण सेकुलर हमला उन्हें अपने तौर-तरीके और जवाब बदलने पर मजबूर कर रहा है। वे देखते हैं कि बिना प्रमाण के जो लोग बजरंग दल पर प्रतिबंध लगाने की मांग करते हैं, ये वही लोग होते हैं, जो प्रमाण के आधार पर अफजल को दी गई फांसी की सजा माफी में बदलना चाहते हैं और सिमी से प्रतिबंध हटाना चाहते हैं। ऐसी स्थिति में हिन्दू इस सेकुलर तालिबानी हमले के विरूद्ध क्रुद्ध न हों तो क्या करें?

लेकिन इस क्रिकेट में खेल कहां है?

Published on :-Navbharat Times, 3 May 2008,
इस देश में एक ऐसा धनाढ्य और प्रभावी वर्ग उभर आया है जिसे राष्ट्रीय-मन को आहत करना अपना पावन सेक्युलर फर्ज प्रतीत होता है। चियर लीडर्स का प्रश्न न तो भारतीय संस्कृति से जुड़ा है और न ही खेल भावना से। जैसे अमेरिका की कसीनो संस्कृति भारत की भागवत कथाओं पर आरोपित की जाए, वैसे ही क्रिकेट के खेल पर कायिक विलास का बाजार थोप कर स्त्री देह को सामान में तब्दील किया जा रहा है। सवाल उठता है कि अगर क्रिकेट के खेल में रोमांच पैदा करने के लिए अर्द्धनग्न विदेशी बालाओं का कायिक-भौंडापन जरूरी है तो फिर क्रिकेट ही जरूरी क्यों? जिन तथाकथित बड़े लोगों ने खुली नीलामी में बोली लगाकर खिलाड़ी 'खरीदे' या अनुबंधित किए, क्या ऐसा करते समय उनके मन में भारत में खेल भावना को प्रोत्साहन देने का 'मिशन' था या पैसा फेंककर और पैसा कमाने की ललक? ये वे लोग हैं जिनके हाथों में समाज का गैर-राजनीतिक नेतृत्व भी है क्योंकि इनकी प्रसिद्धि, लोकप्रियता और मीडिया-उपस्थिति का सामान्य जन के व्यवहार, शैली और आचरण पर असर पड़ता है। जिस देश में 27 फीसदी से ज्यादा लोग गरीबी रेखा से नीचे हों, 35 फीसदी अभी भी साक्षर न बन पाएं हों, जहां 17,400 किसान एक साल में आत्महत्या कर चुके हों, वहां क्रिकेट के करोड़पति, खेल के मैदान को विशाल बार बनाने जैसा कर्म कर रहे हैं। यह प्रसंग इस बात को भी सिद्ध करता है कि धनपतियों से किसी भले उद्देश्य के लिए काम करने की उम्मीद नहीं की जा सकती। ये लोग देश के पासपोर्ट का इस्तेमाल करने वाले वैश्विक खिलाड़ी होते हैं- इन्हें कभी भी आप बुन्देलखण्ड के किसानों की मदद करते हुए, करगिल या पूर्वान्चल में देश की रक्षा में शहीद होने वाले जवानों के परिवारों की सहायता में मैच आयोजित करते हुए, अनुसूचित जातियों और जनजातियों के लिए कोई अभिनय प्रशिक्षण केंद्र या वित्त प्रबंधन विद्यालय खोलते हुए नहीं देखेंगे। तो फिर भारत को सिर्फ पैसा कमाने का प्लेटफॉर्म मानने वाले ये लोग किस मातृभूमि की संतान हैं? निजी तौर पर अपनी जिन्दगी कैसे जीनी है, इन्हें यह तय करने का हक जरूर है। जैसे मर्जी जिएं। पर अपनी अपसांस्कृतिक विलासिता का विकार पूरे समाज में फैलाने का इन्हें हक नहीं दिया जा सकता। दुर्भाग्य से मीडिया का एक वर्ग इन बातों को नैतिक-पुलिसियापन के आत्मदैन्यग्रस्त शब्द के प्रयोग द्वारा बढ़ावा देता है। जो कुछ भी भारत का मन व्याख्यायित करता है- उसके विरोध में ये लोग आधुनिकता का विदेशीपन ढूंढ़ते हैं। पहले कुछ लोग गंगा को वोल्गा बनाने चले थे और विवेकानंद, गांधी व सुभाष बोस को नकारकर माओ, स्टालिन व लेनिन के पुतले पूजने लगे, तो अब ये नवधनाढ्य जुगुप्साजनक सार्वजनिक व्यवहार को सेक्युलर स्वातंत्र्य का पर्याय बनाना चाहते हैं। औपनिवेशिक दास मानस किस प्रकार भारतीय होकर भी अभारतीयता का प्रसारक हो सकता है, चियर-लीडर प्रकरण उसका एक उदाहरण है। क्रिकेट या ऐसे किसी भी खेल के मेले में कुछ अतिरिक्त रंग भरने के और भी उपाय हो सकते थे - क्या पंजाब का भांगड़ा और गिद्दा यूरोपीय बालाओं के प्रदर्शन से बुरा है? और क्या क्रिकेट का खेल हमारा राष्ट्रीय रंग बन गया है? इतना कि देश के वैज्ञानिकों द्वारा अन्तरिक्ष में 10 उपग्रह सफलतापूर्वक प्रक्षेपित करने का समाचार क्रिकेट खिलाड़ियों द्वारा थप्पड़ मारने की घटना की तुलना में कम महत्व का बना दिया गया? अब इस क्रिकेट में खेल नहीं दिखता। खेल मैदान के अंत पर हमें शोक व्यक्त करना होगा।

उपेक्षित और असहाय जम्मू

Published on :-Dainik Jagran, Aug 05, 2008
एक माह से जम्मू दहक रहा है। सेना की गश्त, गोलीबारी, क‌र्फ्य के बीच गूंजते असंतोष के स्वर। आखिर भारत में देशभक्ति की कीमत घर से उजड़ना या जान देना क्यों हैं? पहले कश्मीरी पंडितों को सिर्फ इसलिए घर से निकाल बाहर किया गया, क्योंकि वे तिरंगे के प्रति निष्ठावान थे। इससे पहले जून 1953 को श्यामा प्रसाद मुखर्जी की श्रीनगर शासन के अंतर्गत रहस्यमय परिस्थितियों में मृत्यु घोषित कर दी गई, क्योंकि वे कश्मीर में देशभक्ति का जज्बा बुलंद कर रहे थे। वे कहते थे कि जम्मू-कश्मीर में सिर्फ तिरंगा रहेगा और कोई झंडा नहीं। इस साल 23 जुलाई को 35 वर्र्षीय कुलदीप कुमार डोगरा ने देशभक्ति की आवाज बुलंद करते हुए अपनी जान दे दी। इस तरह जान देना अस्वीकार्य है, लेकिन कुलदीप के आत्मोसर्ग ने हिंदू हनन में सेक्युलर भूमिका को उजागर किया और जम्मू में एक अभूतपूर्व विरोध की लहर पैदा कर दी।

कुलदीप डोगरा की देह जम्मू कश्मीर पुलिस जबरदस्ती उठा ले गई और सुबह ढाई बजे शराब तथा टायर डालकर जलाने का प्रयास किया तो उसके गांव के लोग आ गए। आखिरकार कुलदीप की देह घरवालों को सौंपी गई। क्या मानवाधिकार वाले सिर्फ आतंकियों के अधिकारों पर बोलने का ठेका लिए हैं? जम्मू कश्मीर सरकार भारत की है या अन्य देश की? आखिर शेष देश में इसकी क्या प्रतिध्वनि हुई? ऐसा लगता है हमारी भारतीयता का समग्र फलक ही चटकने लगा है। कश्मीर के पांच लाख शरणार्थी अभी भी अपने देश में बेघर और अनाथ जैसे घूम रहे हैं। जम्मू का दृश्य बयान करना बहुत कठिन है। जो सड़कें तीर्थ यात्रियों और स्थानीय नागरिकों के आवागमन और काम-काज से भरी हुआ करती थीं आज वहां मीलों दूर तक भांय-भांय करता दहशत भरा सन्नाटा पसरा हुआ है। सैनिकों के बूटों की खट-खट आवाज कहीं-कहीं सन्नाटे को तोड़ती है। घरों में आटा नहीं है, चावल नहीं है, पानी नहीं है। खाना बनाना तक मुश्किल हो गया है। रोजमर्रा का सामान नहीं मिल रहा है। मुहल्लों के भीतर जाने पर सिर्फ फुसफुसाहटें सुनाई देती हैं। जम्मू के नागरिक अब घर में भी जोर से बोलना मानो भूल गए हैं। बाजार बंद हैं, दिलों में मातम है। सब एक सवाल पूछ रहे हैं कि जम्मू कश्मीर हिंदुस्तान का है या नहीं? अगर है तो वहां आज भी दो झंडे क्यों लहराए जाते हैं? आखिर क्यों भारतीय तीर्थ यात्रियों के लिए वह जमीन नहीं दी गई जो बंजर थी और जहां घास का एक तिनका भी नहीं उगता। इसे स्वयं जम्मू कश्मीर सरकार ने उच्च न्यायालय के निर्देश पर अमरनाथ श्राइन बोर्ड को स्थानांतरित किया था। इस जमीन पर कोई स्थायी रूप से रहने वाला नहीं था। इस जमीन का उपयोग वर्ष में सिर्फ दो महीने के लिए होने वाला था और इसका लाभ स्थानीय कश्मीरी नागरिकों को मिलने वाला था? जम्मू कश्मीर में हिंदुओं के दो बड़े तीर्थ स्थान हैं-माता वैष्णो देवी और अमरनाथजी। इन दोनों यात्राओं पर हर वर्ष करीब 70 लाख से अधिक तीर्थ यात्री जाते हैं। वे रास्ते में करोड़ों रुपये खर्च करते हैं। इसका पूरा लाभ जम्मू-कश्मीर की अर्थव्यवस्था को होता है। जिहादियों के कारण जम्मू कश्मीर में पर्यटक आने वैसे ही कम हो गए हैं। अगर हिंदू तीर्थ यात्री जम्मू कश्मीर न आएं तो वहां की सारी अर्थव्यवस्था ठप्प हो सकती है। अभी भी जम्मू-कश्मीर को शेष देश को मिलने वाले अनुदानों से औसतन दस गुना ज्यादा अनुदान और सहायता मिलती है। अपनी हर गलती का दोष वह भारत सरकार पर थोपते हैं यानी खाना भी हमारा और गुर्राना भी हम पर। पूरी रियासत के तीन हिस्से हैं-जम्मू, घाटी और लद्दाख। श्रीनगर के राजनेता न केवल अनुदान का अधिकांश हिस्सा सबसे छोटे भाग और सबसे कम जनसंख्या पर खर्च करते हैं,बल्कि जम्मू और लद्दाख के नागरिकों के साथ भेदभाव भी करते हैं। जम्मू कश्मीर का कुल वैधानिक क्षेत्रफल 222236 वर्ग किलोमीटर है। इसमें से 78114 वर्ग किमी पाकिस्तान के अवैध कब्जे में है और 37555 वर्ग किमी चीन ने कब्जाया हुआ है। लद्दाख का क्षेत्रफल 59211 वर्ग किमी और जम्मू का 26293 वर्ग किमी है। घाटी का क्षेत्रफल है 15833 वर्ग किमी। 1963 में पाकिस्तान ने अवैध कब्जे के कश्मीर में से 5180 वर्ग किमी चीन को भेंट दे दिया था। क्या आपने कभी सुना है कि कश्मीर के उन जाबांज नेताओं ने जो हिंदू तीर्थ यात्रियों को एक इंच जमीन भी न देने के लिए अराजकता फैला देते हैं, पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर को वापस लेने के लिए धरना या प्रदर्शन दिया हो? हजारों वर्ग किमी जमीन पाकिस्तान के कब्जे में चली जाए तो उस पर खामोश रहना और हिंदू तीर्थ यात्रियों के लिए जमीन देने पर जान की बाजी लगाने की धमकियां देना किस मानसिकता का द्योतक है?

जम्मू और कश्मीर घाटी में लगभग बराबर की संख्या में मतदाता हैं, लेकिन जम्मू को सिर्फ दो लोकसभा सीट दी गई हैं और घाटी को तीन। पूरे राज्य की आय का 70 प्रतिशत से अधिक जम्मू से मिलने वाले राजस्व से प्राप्त होता है और घाटी से लगभग 30 प्रतिशत, लेकिन खर्च करते समय जम्मू पर कुल राजस्व का 30 प्रतिशत खर्च किया जाता है और घाटी पर 70 प्रतिशत। लद्दाख के साथ श्रीनगर के शासकों का भेदभाव सीमातिक्रमण कर गया है। लद्दाख बौद्ध संघ ने केंद्र को ऐसे दर्जनों ज्ञापन दिए जिनमें लद्दाख के बौद्ध युवकों को परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद भी कश्मीरी प्रशासनिक सेवा में न लेने, मेडिकल, इंजीनियरिंग कालेज में दाखिला न देने जैसे भेदभाव के अनेक आरोप लगाए। सच यह है कि योजनाबद्ध तरीके से लेह के बौद्ध समाज को अल्पमत में किए जाने का षड्यंत्र चल रहा है। वास्तव में पूरे प्रदेश में ही भारत लगातार सिकुड़ता गया है। यह परिस्थिति दिल्ली के रीढ़हीन शासकों द्वारा पनपाई और बढ़ाई गई है। जम्मू कश्मीर भारत मा का भाल है। वहां का दर्द भारत का दर्द है। यदि हम वहां का दर्द नहींमहसूस करेंगे तो शेष भारत में भी बंटवारे के बीज फैलेंगे।

कमजोर होती हिंदू शक्ति

Published on :-Dainik Jagran, Aug 19, 2008
नेपाल में सत्ता परिवर्तन किसी देश में राजतंत्र से लोकतंत्र में हुआ रूपांतरण मात्र नहीं है। प्रचंड का प्रधानमंत्री बनना संपूर्ण दक्षिण एशिया क्षेत्र, जिसे भारतीय उपमहाद्वीप भी कहा जाता है, में हिंदुओं के लगातार कमजोर होते जाने का प्रतीक है। प्रचंड जिस माओवादी संगठन के प्रमुख है उसकी सैन्य गुरिल्ला इकाई को पीपुल्स लिबरेशन आर्मी कहा जाता है। प्रचंड चीन की सेना की तर्ज पर बनी इस अराजक और आतंकी गुरिल्ला फौज के कमांडर इन-चीफ रहे है। नेपाल में 12 साल से चल रहे माओवादी आतंकवाद में 15 हजार से अधिक नेपाली नागरिक मारे गए। माओवादी क्रांति के दौरान केवल मंदिरों, संस्कृत पाठशालाओं, हिंदू प्रतीकों और परंपराओं को निशाना बनाया गया। इस आड़ में नेपाल में तीव्रता से ईसाई मतांतरण बढ़ा और भारत विरोधी तत्वों की गतिविधियां भी तेज हुईं। यह विडंबना ही है कि जन्म से मृत्यु तक की अपनी प्रार्थनाओं में जो हिंदू सर्व मंगल और कल्याण की कामना करता है और जिसके स्वभाव और व्यवहार का अनिवार्य हिस्सा सर्वपंथ समभाव है उसी हिंदू को नेपाल में अपनी पहचान के प्रति हीनभाव से ग्रस्त करने का प्रयास हुआ यानी हिंदूपन का आग्रह आधुनिकता एवं मानवता विरोधी बताया गया, जबकि ईसाई और इस्लाम समाज जितना अपनी पहचान और आस्था के कर्मकांड का आग्रही हुआ उतना ही उसे पंथनिरपेक्ष और सम्मान का पात्र माना गया। नेपाल में राजशाही के अंत का किसी को दु:ख नहीं हुआ। राजशाही ही वर्तमान दुर्दशा के लिए जिम्मेदार है। जो नेपाल पशुपतिनाथ से पहचाना जाता है वह अब बिशप हाउस को महत्व दे रहा है। यह कम्युनिस्ट पंथनिरपेक्षता की विशिष्टता है। देखा जाए तो दुनिया के अनेक देशों में पंथ-आधारित राजतंत्र एवं लोकतंत्र का सुंदर समन्वय देखने को मिलता है। इनमें चर्च पर निष्ठा रखने वाला ब्रिटेन, बेल्जियम व बौद्ध जापान, म्यांमार आदि हैं, जबकि माओवादियों ने नेपाल की हिंदू राष्ट्र की पहचान समाप्त करने पर इस तरह जोर दिया मानो हिंदू निष्ठा और लोकतंत्र में विरोधाभास हो।

हिंदुओं के प्रभुत्व और शक्ति मे क्षरण पूरे दक्षिण एशिया में दिखाई देता है। जिस पूर्वी पाकिस्तान का बांग्लादेश के रूप में नवोदय हुआ वहां विभाजन के समय हिंदुओं की संख्या तीस प्रतिशत थी। यह अब घट कर दस प्रतिशत रह गई है। भारतीय जवानों और जनता के रक्त व धन से बांग्लादेश का जन्म हुआ, लेकिन 1971 में पाकिस्तानी सेना द्वारा तोड़े गए ढाका के प्रसिद्ध रमना काली मंदिर का शेख मुजीब ने भी नव-निर्माण नहीं होने दिया। उस प्रसिद्ध मंदिर के पुनरुद्धार का हिंदू आंदोलन अभी तक चल रहा है। बांग्लादेश में हिंदू स्त्रियों व शेष समाज पर जुल्म की दास्तान लिखने वाली तस्लीमा नसरीन को हिंदू बहुल भारत में ही तिरस्कृत होकर भटकना पड़ रहा है। आज तक बांग्लादेश में कोई भी हिंदू कैबिनेट मंत्री नहीं बनाया गया। मैं छह बार पाकिस्तान गया हूं। वहां बचे-खुचे मंदिरों के हिंदू पुजारी अ‌र्द्ध चंद्राकार टोपी पहनते है ताकि बाहर हिंदू के रूप में पहचाने न जाएं। हिंदू स्त्रियां बिंदी तक नहीं लगातीं। होली-दीवाली जैसे पर्व बंद अहातों में मनाए जाते हैं। हिंदू अमेरिकन फाउंडेशन के अनुसार 1947 में पाकिस्तान में 24 प्रतिशत हिंदू थे, जो घटकर 1.6 प्रतिशत रह गए है। श्रीलंका में हिंदुओं की संख्या 15 प्रतिशत है। एक समय था जब बामियान से बोरबोडूर तक हिंदू संस्कृति की बहुलतावादी गौरव पताका फहराया करती थी। विश्व का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर अंकोरवाट कंबोडिया में है। गांधार से लेकर पूर्वी एशिया के लाओ देश तक का क्षेत्र स्वर्ण भूमि या हिंदेशिया कहलाता था। आज भी बैंकाक हवाई अड्डे का नाम संस्कृत में है जिसका अर्थ स्वर्णभूमि है। यहां प्रवेश करते ही आकर्षक 'सागर मंथन' की शिल्पाकृति के दर्शन होते है, लेकिन भारत में पंथनिरपेक्ष विचारधारा के हिंदू द्वेषी चरित्र के कारण पड़ोसी देशों में हिंदुओं की रक्षा या हिंदू समाज के प्रति समभाव का विचार पनप नहीं सका।

म्यांमार अपनी हिंदू बौद्ध परंपरा के कारण हिंदू-द्वेषी नहीं बना, परंतु जहां कट्टरवादी वहाबी इस्लाम और कम्युनिज्म हावी हुए वहां हिंदू-हनन का चक्र अबाधित चला। इसके लिए स्वयं आत्मविस्मृत, वोट बैंक केंद्रित हिंदू नेता ही जिम्मेदार है। उनकी राजनीति का मूलाधार है-'वोट बढ़े, भले ही हिंदू घटें'। उनके लिए हिंदू होने का अर्थ है व्यक्तिगत लाभ के लिए अंगूठियां पहनना, हवन, यज्ञ कराकर टिकट मिलने या मंत्रिपद पाने का मार्ग निष्कंटक बनाना यानी भगवान से अपने फायदे के लिए कुछ लेना और बदले में कोई मंदिर या अन्य धर्मस्थल बनवा देना। इस लेन-देन में समाज और राष्ट्र गायब ही रहता है। ये वही हिंदू नेता है जो अंग्रेजों के चाटुकार राय बहादुर या दारोगा बने, पर साथ ही पूजा-पाठ भी जारी रखा। स्वामी दयानंद, विवेकानंद और डा. हेडगेवार जैसे समाज सुधारकों ने इसी मानसिकता पर प्रहार करते हुए समाज के संगठन एवं प्रबोधन का काम किया था, पर वह कार्य कितना अधूरा है, यह जम्मू में तिरंगे के लिए चल रहे संघर्ष से ही जाहिर है। जब भारत में ही लाखों की संख्या में हिंदुओं को शरणार्थी बना दिया जाए और जब अलगाववादी, भारतद्रोही लाल चौक पर तिरंगा सहन न कर सकें और न ही जमीन का एक टुकड़ा हिंदू तीर्थयात्रियों को देने दें तब यह आशा कैसे की जा सकती है कि भारत पड़ोसी देशों में हिंदुओं की रक्षा कर पाएगा? यह स्थिति हिंदू समाज में संगठन एवं धर्म के लिए एकजुटता की कमी भी दिखाती है। दुनिया के धन-कुबेरों में हिंदू है, विश्व-प्रवासी संत और बहुराष्ट्रीय कंपनियों के प्रमुख पदों पर अनेक हिंदू है, पर कभी भी, कहीं भी वे इस भारतीय उपमहाद्वीप अर्थात दक्षिण एशिया में हिंदुओं के जनसांख्यिक एवं राजनीतिक क्षरण पर चिंतित नहीं दिखते। नेपाल ही वह अंतिम कोना था जहां हिंदुओं को अपनी पहचान के जगमगाते दीपक का आभास होता था। वहां लोकतंत्र का अभिनंदन करते हुए भी माओवादी आग्रह हिंदू समाज के लिए आश्वस्ति नहीं जगाते।
[नेपाल में प्रचंड के प्रधानमंत्री बनने के साथ हिंदू पहचान को और अधिक कमजोर होता देख रहे हैं तरुण विजय]

Wednesday, October 15, 2008

Tarun Vijay-a very moderate extremist

Author: K Hari Warrier

Publication: The Pioneer

Date: May 27, 1997

How should the editor of a weekly being published by the Rashtriya Swayamsevak Sangh look? It is not difficult to have preconceived notions going into such an interview, looking for a broad-shouldered, moustachioed giant, maybe with an inclination for paan, and definitely clad in dhoti-kurta - an ideal shakha figurehead. Having equipped myself with this Atlas kind of image in my mind, I diffidently walk in to meet Tarun Vijay, editor of Panchajanya. And the house of cards come tumbling down. This editor is a short, slim, bespectacled, mild-mannered Professor Calculus kind of person who seems to be even more diffident than oneself about this meeting.
No sign of paan, and the accoutrement is kurta-pyjama. Tarun Vijay, 36, has been at the helm of Panchajanya since 1989. He joined the magazine in 1986 as executive editor, after nearly a decade of freelance ' journalism and work among tribals in Dadra and Nagar Haveli as a pracharak of Vanvasi Kalyan Ashram. This last-mentioned sojourn, in fact, had attracted him the attention of noted film-makers Basu Bhattacharya and William Greaves, the latter from the USA, who featured him in a documentary.
What hits the eye upon entering Vijay's small room is a brand new multi-media computer centre taking up all of one corner. Vijay follows my eye, and grins: "Abhi liya hai, just last month it was inaugurated by one of the Sangh officials. But it is mine, and I am paying nearly half my salary on the installments with 18 per cent interest!" The computer is only one item to attract attention. There is a huge photograph of what appears to be a lake in the Himalayas. Mansarovar? Yes, the man has been to Mansarovar Lake in Tibet, and has written a book on the visit - in Hindi, which makes it an absolute rarity.
The photographs are his own, and mighty impressive, witness the enlargement on the wall. It does not take him much to set him off on his travels, and he calls his secretary for a copy of the book. I hastily interpose that I will obtain a copy from the market - but apparently, the thing is so popular that the edition is sold out! Vijay's penchant for travel is obvious. In the years as editor of Panchajanya, he has visited various parts of the country - and various countries.
In fact, he is just back from a month-long tour of Europe: Holland, Germany, Denmark and England. The tour, sponsored by Sangh workers abroad, was a huge success, he says, as we are interrupted by a telephone call from Germany: one of his sponsors tells him of a story in German press about his visit, and promises to send a translated copy soon. The computer, these visits, what do they do for Panchajanya? Does it explain the huge success that the magazine has been enjoying of late?
"The computer is personal, all journalistic work is done manually. As for the success, you see, what I did was to change the basic approach. I have tried to make the magazine more broad-based. Before I took over, all it had "s hard-core party news, not even reportage or analyses of what other parties say and think.
I have tried to give a balanced picture. Of course, the thrust is on the RSS and BJP angle, but we carry interviews with leaders of other parties - even Muslim leaders, because our readers are interested in their views." This "unprejudiced reportage" has, as a matter of fact, fetched results. In 1995, the Audit Bureau of Circulation credited the magazine with a circulation of 85,000, a figure which Vijay claims has crossed the 1 lakh mark today. No political party even pretends to claim these kind of figures - but then, theirs are serious party organs with serious articles about what their leaders think and say. But why should that detract from the product, Vijay asks. "And despite our Sangh background, I can confidently say that no leader - Congress, JD, Muslim - will today deny us an interview, because they know that we will print their words without any interpolation. If we wish to give our own views, we do that in other articles carried alongside. The traveller's itch is still troubling him, no matter if he has just returned from a trip. That was official. He wishes he could pack his bags and go off into the mountains. "That is the problem. Yeh jegah nahin chhodti, there is no end to work..." An all too familiar plaint. He promises to call me should he decide to set out for Mansarovar again. And I take leave, carrying with me the impression of a very likeable man - were he not the representative, albeit a moderate one, of a very extreme school of thought. A moderate extremist.


Published on :-13 July 2000

'A star is a star and should not be labelled as Hindu or Muslim…'

A recent article in Panchjanya, a Hindi weekly published by the Rashtriya Swayamsevak Sangh, has stirred a hornet's nest. The article sought to compare Hrithik Roshan, the newest star on the Hindi film firmament, with the present three kings of celluloid -- Shah Rukh Khan, Salman Khan and Aamir Khan.

Panchjanyaeditor Tarun Vijay has defended the article. He strongly denies any communal bias behind the article and insists that the real villain is fugitive gangster Dawood Ibrahim who is forcing Bollywood to patronise its Muslim artistes.

Vijay agreed to an e-mail interview, with Associate Editor Amberish K Diwanji.

The article has created a storm of protest with people claiming it is seeking to divide the film industry along communal lines. Your comments?

The whole controversy started with a Jawaharlal Nehru University Leftist turned journalist giving a distorted interpretation to the story so as to drag in the RSS and the name of its chief, K S Sudarshanji into the controversy. This shifted the focus of the article from the dangers of mafia control in the film industry to those who were in fact trying to warn us against such control. The cover headline says 'MNCs and mafia of Gulf sow the seeds of disharmony'. In the beginning itself the story says the stars who are working against Hrithik (Roshan) might have been prompted by jealousy and not by any other consideration. Even Govinda or (Ajay) Devgan who are trying to be the number one in the industry must be feeling the heat in the same manner that Shah Rukh or Salman might be feeling.

After this, the story says the poison of communalism has spread widely among the common people. If someone drinks Coke or Pepsi just because Shah Rukh or Hrithik are campaigning for the drinks, that would be ridiculous. In fact the entire story warns against falling prey to the designs of the mafia's and the MNCs's dividing game. There is nothing against Shah Rukh or Salman in the article. The interpretations in a local daily by a JNU Leftist leader turned journalist were prejudiced and false for reasons driven by ideological differences.

We know one can compel a producer to hire a particular actor, but he cannot make him or her a star. Stars get the top slot by their own brilliance and hard work. Nobody in the world can make or unmake a genuine star. But a few media persons, with a resolve to give a bad name to and attack a particular ideology, distorted and misrepresented the facts and instead of highlighting the role of the mafia, they attacked us.

The role of the mafia in the film industry is too well known. How films are financed and the distribution network is influenced, how the extortion racket works, how entire shows are bought in advance to create a false sense of 'hit', the Dubai connections, these are the issues the story warns about.

And about the MNCs's hate ad campaign, even Time magazine has done a story. They don't have any stakes in a stable and harmonious Indian society. To make more money they can behave like the British did. They did not adopt the Gandhian way to kill the Indian soft drinks industry.

The article mentions that producers are being forced to hire Muslim actors by the mafia. Can this be substantiated? Producers are known to hire actors primarily on the basis of an actor's market value, regardless of his or her religion. Why do you (or your article) believe otherwise when you say that the mafia forces producers to hire particular people?

Certainly, the mafia which is responsible for the infamous Mumbai riots and which is working towards communalising the film industry has a final say in everything regarding the films they finance or promote. Without them there is no money for most producers. People are afraid to speak out for they fear for their lives. Hindus and their ideology are soft targets. Attacking them is fun and makes for good, saleable copy. Also, it is safe to attack them because they typically do not react violently. Remember Deepa Mehta and her film Water? Imagine what would have happened if she had tried to make a film on a Muslim topic like 'Triple Talaq' say, with Shabana Azmi playing Shah Bano.

So even if some senior producers express their fear of the manner in which they are pushed and compelled to take certain decisions, they dare not openly say so. They very well remember the fate of Gulshan Kumar. There definitely is a climate of fear.

The article also mentions that people of a certain community (I presume Muslims) prefer a particular soft drink simply because it is advertised by a Muslim actor. Firstly, is this claim based on any independent study? Secondly, other Muslim actors have advertised for other soft drinks. Thus, is not the claim fallacious?

It happens both ways and there is nothing religious about it. People try to copy their favourite heroes, whether they belong to film world or politics or to the software industry. It revolves around the charisma of the person and not around his or her religion. It was reported after a sample survey done by our team and we have already condemned for trying to bring religion into this tendency.

What is the writer's background? Is the writer knowledgeable about the film industry in general and the actors concerned in particular?

Yes sir. He is a gold medalist from IIMC (Indian Institute of Media and Communications, New Delhi).

Why is Hrithik Roshan seen as a Hindu star fighting against the Muslim (Khans) stars?

Who says that? A star is a star and should not be labelled as Hindu or Muslim.
If Shah Rukh, Salman and Aamir (and also Saif Khan) are today among India's most popular stars, it is because millions of Hindus are their fans, just as millions of Muslims are fans of Hrithik, Govinda, and Ajay Devgan. Is the writer aware that fans do not choose their heroes on the basis of religion? Why has the writer missed that point completely in the article? Why exhort Hindus to be fans of Hrithik over the Khans?

We agree with you. Please read our article. Nowhere have we exhorted Hindus to be fans of Hrithik.

Any other comment you would like to make?

Calling oneself 'secular' has become a license for making unsubstantiated charges against anyone who has a different point of view. Those who call themselves secular should not try to whip up hate and disharmony in the name of countering it. There should be a reasonable hearing of all viewpoints.
It is in fact some of the mediamen trying to pitch one section of the film industry against the other by misusing a report on the mafia games who are guilty of spreading hate just so as to get good copy. The distrust, the insulting attitude, the loaded and prejudiced 'Gestapo' like inquiries, distortion and falsifying statements -- this is part of their 'arsenal' in the so-called war against a particular ideology. And that is not fair.
Even if a school of thought is wrong in its policies and expressions, no one has the license to counter it with wrong instruments. We must remember that the end does not justify the means.
I thank redifffor giving me the opportunity to set the record straight.


Published on :-01 July 2001

Last week, Tarun Vijay's name was doing the rounds as the new entrant to the prime minister's office. But the editor of Panchjanya -- the RSS weekly -- says he is not in the running for the post of media advisor to the prime minister, and would rather go back to working for the tribals in Dadra and Nagar Haveli instead.

Known for his proximity to Union Home Minister L K Advani and Human Resources Development Minister Murli Manohar Joshi Tarun Vijay -- in many ways -- is the public face of the RSS.

In an interview to Ramesh Menon, he says India has taken the initiative by inviting Pakistan President Pervez Musharraf, but it was now for Pakistan to take the road to peace.

Why did Prime Minister Vajpayee finally agree to invite General Musharraf?

I think it is the Hindu psyche at work.

When a section of Muslims wanted a separate Pakistan against the wishes of a majority of Indians and even a section of Muslims, they got it. They wanted a loan of Rs 52 crores. Jawaharlal Nehru and Sardar Vallabhbhai Patel were against the loan. Patel told Bapu (Mahatma Gandhi) that they would not repay it. But Mahatma Gandhi said India must give it as an elder brother.

After getting the money, they attacked India. They have kept attacking India since. In between there were so many rounds of talks. What happened? Nothing. Zulfikar Ali Bhutto betrayed us in Simla. He told Indira Gandhi to return their prisoners of war -- there were over 90,000 of them -- and he would solve the problem. But he did not.

In 1971, we could have solved the Kashmir problem as we had an edge. Later Rajiv Gandhi went to Pakistan to talk to Benazir Bhutto. Nothing happened. Vajpayee went to Lahore with the message of love and peace. And Pakistan gave us Kargil.

As you see, it is the typical Hindu psyche at work -- that after every setback, we will still work for peace. I hope Pakistan understands this.

It will be a great relief to the entire region if Pakistan-sponsored terrorism comes to an end. If General Musharraf decides, he can do it, as he is now the supreme leader.

In your opinion, what will the outcome of the Indo-Pak summit be?

We certainly have hopes for the summit. We hope it will pave way for future negotiations. However, we do not know how far General Musharraf will go to contain terrorism in the Valley and elsewhere.

When we are negotiating with Musharraf in Agra, it will be difficult to forget the martyrs of Kargil. Right from Srinagar to Agartala and other states of the northeast, the government is on record saying that the acts of terrorism against the Indian State have been carried out by the ISI. If that is the case, we have to see how India can deal with Pakistan on this issue during the summit.

As the summit draws near, many find it difficult to forget Kargil.

We are trying to be friends with Pakistan.

At this moment, we cannot say we are friends. We cannot say General Musharraf is a great friend or that Pakistan is a great friend of India. When we are negotiating with Musharraf in Agra, it will be difficult to forget the martyrs of Kargil.

Atal Bihari Vajpayee chose to invite the person who refused to greet him at the Wagah border. This speaks volumes of the strength of the Indian State and democracy.

Only a person who is strongly embedded in his seat of power could have taken such a great risk. It is like walking on a double-edged sword.

When body bags were sent from Kargil to the villages of India, slogans of 'Amar Jawan' rent the air. At that time, Musharraf was the most hated man in India. Now, we are ready to welcome him with full honours. I think it is an unparalleled initiative in world history.

How has this thinking come about?

Violence never benefits anybody. It has not benefited Pakistan. Our vision is that if India and Pakistan can come together to fight poverty, unemployment, the pressures of the Western world, economic pressures of multinational companies and developed countries, then this area will become the number one area in the world.

We can do wonders together. But for that Pakistan will have to forget the hate against India. Pakistan looks at India as a Hindu kafir (infidel) state.

Why do they have such a perception?

There cannot be any reason for hatred against India. I have been to Pakistan and I found the common man would like to be friendly with India. Commoners, journalists, intellectuals -- all feel the same. They were telling me they realise that Pakistan can never get Kashmir from India. It is something that is only there in the heads of the leaders in Islamabad. People want peace, but leaders infuse hatred.

There is a boundary. But one history, one race. We had the same ancestors. We share a common geographical area. We like their songs, they like our films. We speak the same language. There is so much to share. So the people to people contact should be strengthened.

The summit must be watched with utmost care. It is not a tamasha (spectacle). The summit should not be presented in a celebratory mood. There is nothing to celebrate as of now. Not yet. The only fact is that we are finally meeting. The celebration has to wait till the results of the summit come.

We wish well to Pakistan, but it should wish India well too.

What do you think is Pakistani's game plan?

Vajpayee chose to invite the person who refused to greet him at the Wagah border. This speaks volumes of the strength of the Indian State and democracy. All these years, all Pakistani leaders who wanted to consolidate their position, went in for India-centric politics. To stay in power, they either show a great love for talks or war. They want to show fundamentalists they are ready to fight that kafir India. That is the problem. This attitude has to change. The times have changed. One cannot hate each other in the changed world.

Kashmir is not a big problem. We can strengthen our bonds in the areas of culture, media, trade and so on. Why cannot we do that? Pakistan should also be in search of peace.

Why do you think so?

Pakistan has lost everything it wanted to preserve. Its reputation all over the world now is of a State encouraging terrorism. Its economy is dwindling. Democracy has been buried. Its low literacy rate, poverty levels, unfulfilled aspirations of its youth -- all these have made it face a real bad time.

Vajpayee's invitation has given lot of credibility to Musharraf. After that, he became president. I do not doubt Pakistan's intentions of walking the peace lane.

What is the RSS thinking on the summit?

The RSS has clearly welcomed Vajpayee's initiative to hold talks. We stand with Vajpayee as far as this initiative is concerned.

Is the RSS in favour of a hardline approach?

There is no hardline or softline. There is only one line: the Indialine. We are one hundred per cent for safeguarding India's interests. This is the core issue for us.

In the interest of peace, will the government take a soft stance?

We completely trust the government will not do anything that will compromise the interests of the country.

We were talking of fundamentalist groups. There are fundamentalist groups in Pakistan all right, but there are fundamentalist groups in India too. Are they not vitiating the atmosphere and fanning hatred?

While we talk of India and Pakistan, we should not try to equate both the countries. What has India done? Pakistan has always been the aggressor. There is no comparison. There cannot be any comparison with Indian fundamentalist groups.

I do not know whom you are referring to when you say there are fundamentalist groups in India. But what do the so-called Indian fundamentalist groups do? They demonstrate. That is all. It is different from fundamentalist groups in Pakistan.

Issues like the Babri Masjid…

Who remembers the Babri Masjid? Only pseudo-seculars raise it without any significance to contemporary times. If one talks of the Babri (Masjid), one can talk of the destroyed temples in Pakistan. It is an endless circle. This is a pious time and we must talk of things that increase confidence in each other and not create acrimony.

Politics have mucked up things in both countries. Where is the reality really?

Once Pakistani leaders decide that terrorism will not yield results and people to people contact is strengthened, then the social fabric will do wonders in bringing both India and Pakistan together.
I have a friend who has just come from Pakistan. She tells me she gets numerous Indian publications there and Indian books are freely available in Islamabad. But here she does not find any publications or books from Pakistan.

We do not get each other's newspapers. We must get them. We get The Guardian, Time and the International Herald Tribune, but not Dawn or The Nation or Jang. There must be a free flow of information. Indian publications are easily available in Islamabad. But it is all smuggled. It is not a formal arrangement. Even paan and masalas are smuggled. You find Apollo Tyres everywhere. But they are routed via Afghanistan. We do not have direct trade links.

Musharraf said India was acting under pressure from the United States.

I really wonder why Musharraf spoke of American pressure. We did not expect it from him. On the eve of his visit, he tried to rob Vajpayee of the credit of inviting him.

Do you see scepticism around the summit?

Scepticism will be there. We are talking to a person with whom trust is yet to be built.

What should be the agenda?

The agenda should find ways for peace. People are tired of the bloodbath. Pakistan should be made to realise that terrorism would yield nothing.